रिन्यूबल एनेर्जी का रुख करने से, तेल की बढ़ती कीमतों के बावजूद, 3.5 ट्रिलियन डॉलर की हो सकती है बचत

रिन्यूबल एनेर्जी का रुख करने से, तेल की बढ़ती कीमतों के बावजूद, 3.5 ट्रिलियन डॉलर की हो सकती है बचत

एक प्रमुख वैश्विक अर्थशास्त्र कंसल्टेंसीकैंब्रिज इकोनोमेट्रिक्स की एक हालिया रिपोर्टतेल और गैस की कीमतों में वृद्धि की स्थिति मेंरिन्यूबल एनेर्जी का रुख करने में तेजी लाने के महत्वपूर्ण वित्तीय लाभों को रेखांकित करती है। इस अध्ययन में न ऊर्जा मूल्य महंगाई के झटकों के आर्थिक असर पर विचार किया गया है बल्कि 2022/23 में बने ऊर्जा संकटजिसका वैश्विक मूल्य स्तरों पर व्यापक प्रभाव पड़ा, के साथ समानताएं भी चित्रित की गईं हैं। 

ऊर्जा संकट के संदर्भ मेंकैम्ब्रिज इकोनोमेट्रिक्स ने E3ME नाम के एक वैश्विक व्यापक आर्थिक मॉडल का उपयोग करके एक सिमुलेशन नियोजित किया। सिमुलेशन ने सामान्य व्यवसाय परिदृश्य और 1.5 डिग्री सेल्सियस परिदृश्य के तहत 2024 से 2040 तक के परिणामों की तुलना कीजो रिन्यूबल एनेर्जी का तेज़ी से रुख करने के परिणामस्वरूप उपभोक्ता कीमतों में संभावित अंतर पर प्रकाश डालता है। 

विश्लेषण से पता चला कि अगर अगले दशक में 1970 के दशक के पैमाने पर तेल और गैस की कीमतों में झटका लगता हैतो वैश्विक अर्थव्यवस्था को 2040 तक 10 ट्रिलियन डॉलर तक का भारी नुकसान हो सकता है। हालांकिरिन्यूबल एनेर्जी को अपनाने में तेजी लाने से 1.5 डिग्री सेल्सियस तापमान का लक्ष्ययह आंकड़ा 6.5 ट्रिलियन डॉलर तक कम हो सकता है। 

Also Read चुनावी गठबंधन को लेकर मायावती ने किया बड़ा एलान

प्रधान अर्थशास्त्री और रिपोर्ट के सह-लेखक हा बुई ने अर्थव्यवस्था पर पर्याप्त प्रभाव पर प्रकाश डालते हुए कहा, "जलवायु कार्रवाई को उसकी वर्तमान दशा और दिशा में छोड़ने से एक झटके की स्थिति में अर्थव्यवस्था से एक साल में 555 अरब डॉलर का नुकसान होगाजो अमेरिकी अर्थव्यवस्था का लगभग आधा है।" बुई ने बताया कि 1.5 डिग्री सेल्सियस परिदृश्य में मजबूत डीकार्बोनाइजेशन नीतियां फोस्सिल फ्यूल पर निर्भरता को कम करती हैंजिससे कीमतों के झटके कम हो जाते हैं। 

कैम्ब्रिज इकोनोमेट्रिक्स रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्षों में शामिल हैं: 

1. 1970 के दशक के स्तर के मूल्य झटके के चलते उपभोक्ताओं के लिए स्थायी रूप से कीमतें बढ़ जाएंगी और यह ऊर्जा और गैर-ऊर्जा खपत दोनों को प्रभावित करेगा। 

2. 1.5 डिग्री सेल्सियस परिदृश्य की तुलना में सामान्य व्यवसाय परिदृश्य में जीडीपी और रोजगार पर नकारात्मक प्रभाव अधिक गंभीर होंगेक्योंकि बाद में फोस्सिल फ्यूल पर निर्भरता कम होगी। 

3. ऊर्जा प्रणाली का तेजी से डीकार्बोनाइजेशन तेल और गैस की कीमतों के झटके से संभावित वैश्विक मूल्य वृद्धि को औसतन आधे से कम कर सकता है। 

4. एनेर्जी मिक्स में रिन्यूबल एनेर्जी की अधिक हिस्सेदारी का मतलब कीमतों के झटके के बाद मूल्य स्तर में छोटी स्थायी वृद्धि होगी। 

हा बुई ने रिन्यूबल एनेर्जी और एनेर्जी एफ़िशियेन्सी में निवेश के महत्व पर जोर देते हुए कहा, "आज रिन्यूबल एनेर्जी और एनेर्जी एफ़िशियेन्सी या ऊर्जा दक्षता में निवेश करने से अल्प और दीर्घावधि में भविष्य के तेल और गैस की कीमतों के ऐसे झटकों के नकारात्मक प्रभावों को सीमित करने में मदद मिलेगी और वैश्विक अर्थव्यवस्था को और अधिक लचीला बनाया जा सकेगा।" 

-- Climateकहानी     

Related Posts

Follow Us