वायरस हो या बार्डर हर चुनौती से निपटने में सक्षम है देश: पीएम मोदी

वायरस हो या बार्डर हर चुनौती से निपटने में सक्षम है देश: पीएम मोदी

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि देश तेजी से विश्व मानचित्र पर अपनी छाप छोड़ रहा है और चाहे वह वायरस हो या बार्डर पर उत्पन्न चुनौती, देश किसी भी स्थिति से निपटने में पूरी तरह सक्षम है।। पीएम मोदी ने गुरूवार को यहां दिल्ली छावनी के करियप्पा परेड मैदान में

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि देश तेजी से विश्व मानचित्र पर अपनी छाप छोड़ रहा है और चाहे वह वायरस हो या बार्डर पर उत्पन्न चुनौती, देश किसी भी स्थिति से निपटने में पूरी तरह सक्षम है।।

पीएम मोदी ने गुरूवार को यहां दिल्ली छावनी के करियप्पा परेड मैदान में राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) की रैली के बाद कैडेटों को संबाेधित करते हुए चीन के साथ पूर्वी लद्दाख में दस महीने से भी अधिक समय से चले आ रहे सैन्य गतिरोध का परोक्ष रूप से उल्लेख करते हुए कहा कि भारतीय सेना ने चीन के इरादों को ध्वस्त कर दिया।

उन्होंने कहा, “ बीते साल भारत ने दिखाया है कि वायरस हो या बॉर्डर की चुनौती, भारत अपनी रक्षा के लिए पूरी मजबूती से हर कदम उठाने में सक्षम है। वैक्सीन का सुरक्षा कवच हो या फिर भारत को चुनौती देने वालों के इरादों को आधुनिक मिसाइल से ध्वस्त करना, भारत हर मोर्चे पर समर्थ है। ”

Also Read  बाबा नीब करौली के संस्मरणों पर आधारित पुस्तक ‘महान संत नीब करौरी महाराज’ का हुआ विमोचन

ये भी पढ़ें- हर व्यक्ति को वैक्सीन उपलब्ध कराना सरकार की प्राथमिकता: मोदी

उन्होंने कहा कि सरकार सशस्त्र सेनाओं को दुनिया भर में सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिए हर कदम उठा रही है और हमारी सेनाओं के पास बेहतरीन ‘वार मशीन’ हैं। बुधवार को फ्रांस से तीन राफेल लड़ाकू विमानों की ताजा खेप के देश में पहुंचने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इन विमानों में आकाश में उडान के दौरान ही ईंधन भरा गया और इसमें हमारे मित्र दिशों संयुक्त अरब अमीरात, सऊदी अरब और ग्रीस ने सहयोग किया। इससे दुनिया में भारत के बढते महत्व का पता चलता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने सेनाओं की जरूरतों को देश में ही पूरा करने का बीड़ा उठाया है। स्वदेशी तेजस लड़ाकू विमान का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि इसकी धमक आकाश से समुद्र तक सुनाई दे रही है और अब वायु सेना को 80 से भी अधिक तेजस विमान दिये जायेंगे। जल्द ही भारत रक्षा उत्पादों के आयातक से निर्यातक की भूमिका में दिखाई देगा।

इन्पुट- यूनीवार्ता

Related Posts

Follow Us