जल प्रलय : ग्लेशियर टूटने से दिखा तबाही का मंजर

जल प्रलय : ग्लेशियर टूटने से दिखा तबाही का मंजर

उत्तराखंड : उत्तराखंड में एक बार फिर जलप्रलय ने हड़कंप मचा दिया है। जलप्रलय के तबाही के मंजर से एक बार फिर उत्तराखंड के कई जिले आगोश में है। आपको बता दें कि उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर के टूटने से आमजन में हड़कंप मच गया। ग्लेशियर के टूटने से तपोवन रानी क्षेत्र में लोगों

उत्तराखंड : उत्तराखंड में एक बार फिर जलप्रलय ने हड़कंप मचा दिया है। जलप्रलय के तबाही के मंजर से एक बार फिर उत्तराखंड के कई जिले आगोश में है। आपको बता दें कि उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर के टूटने से आमजन में हड़कंप मच गया। ग्लेशियर के टूटने से तपोवन रानी क्षेत्र में लोगों में दहशत का माहौल है। ग्लेशियर टूटने से नदी का जलस्तर भी बढ़ गया है।


सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पता चला है कि ग्लेशियर के टूटने से नदी के किनारे की कई बस्तियां तबाह हो गई हैं। जिससे काफी जनहानि की भी संभावना व्यक्त की जा रही है।आपको बता दें कि उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से अलकनंदा और धौली गंगा उफान पर हैं। पानी के तेज बहाव में कई घरों के बहने की आशंका है। आस-पास के इलाके खाली कराए जा रहे हैं। लोगों से सुरक्षित इलाकों में पहुंचने की अपील की जा रही है। इस आपदा में कम से कम 150 लोगों के मारे जाने की आशंका जताई जा रही है।


उत्तराखंड के जल प्रलय पर प्रधानमंत्री मोदी स्थिति की निगरानी कर रहे हैं। जबकि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत घटनास्थल के लिए निकल चुके हैं। मौके पर रेस्क्यू टीम ने पहुंचकर राहत बचाव कार्य शुरू कर दिया है।

आपको बता दें कि ग्लेशियर के टूटने से ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट को भी क्षति पहुंची है।साथ ही साथ प्रशासन ने अलकनंदा नदी के किनारे रह रहे लोगों से अपील की है कि वह जल्दी से जल्दी सुरक्षित स्थान पर चले जाएं।

गंगा नदी के किनारे वाले जिलों में किया गया हाई अलर्ट


उत्तराखंड में जल प्रलय को लेकर उत्तर प्रदेश के गंगा नदी के किनारे बसे शहरों को हाई अलर्ट पर कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश गंगा नदी के जल स्तर पर 24 घंटे निगरानी करने के लिए प्रशासन ने बोल दिया है। और गंगा नदी के किनारे बसे उत्तर प्रदेश के शहरों में हाई अलर्ट पर किए हैं।

Related Posts

Follow Us