IIT Kanpur : हेल्थ एटीएम से रखा जायेगा स्वास्थ्य का ख्याल

IIT Kanpur : हेल्थ एटीएम से रखा जायेगा स्वास्थ्य का ख्याल

IIT Kanpur : हेल्थ एटीएम से रखा जायेगा स्वास्थ्य का ख्याल



हाल ही में कोविड 19 के कारण मेडिकल क्षेत्र में आयी कठिनाईयों को दूर करने के उद्देश्य से आज IIT Kanpur में  एसजीपीजीआई लखनऊ के सहयोग से हेल्थ एटीएम की शुरूआत की गई। इस हेल्थ एटीएम के माध्यम से जरूरतमंद मरीज दूर बैठे चिकित्सक से परामर्श कर सकता है।

हेल्थ एटीएम (टेलीमेडिसिन कियोस्क) का उद्घाटन आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो अभय करंदीकर और एसजीपीजीआई लखनऊ के निदेशक प्रोफेसर आर० के० धीमान ने किया। यह हेल्थ एटीएम एक एकीकृत कंप्यूटर, बायोमेडिकल डायग्नोस्टिक्स, प्वाइंट ऑफ केयर प्रयोगशाला परीक्षण और वीडियोकांफ्रेंसिंग सिस्टम है जो टेलीहेल्थ क्लिनिक को डॉक्टरों के साथ दूर से जोड़ने वाले इंटरनेट आधारित नेटवर्क से जुड़ा है। 

प्रोफेसर लक्ष्मीधर बेहरा और प्रोफेसर एसके मिश्रा ने आईआईटी कानपुर निवासियों के लिए स्वास्थ्य एटीएम और निवारक व्यक्तिगत स्वास्थ्य देखभाल में इसके उपयोग के बारे बताते हुए कहा कि 
जैसा कि हमारे राष्ट्रपिता ने भी कहा है कि , भारत की बहुत बड़ी आबादी गाँवों में रहती है, इसलिए हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सरकार की सभी सार्वजनिक सेवाएँ दूर-दराज के क्षेत्रों में रहने वाले हमारे नागरिकों तक पहुँचें। उन सार्वजनिक सेवाओं में स्वास्थ्य सेवाएं कोई अपवाद नहीं हैं। दूरसंचार प्रौद्योगिकी के तेजी से विकास के साथ और विशेष रूप से वायरलेस आधारित इंटरनेट इस तरह के पोर्टेबल कम लागत वाले एकीकृत मंच का उपयोग करके स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करता है। भारत सरकार ने जनता की भलाई के लिए डिजिटल प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देने के अपने मिशन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण की स्थापना की है, इसका एक उद्देश्य अपने सभी नागरिकों के लिए डिजिटल स्वास्थ्य देखभाल की पेशकश करना है और यह सुनिश्चित करना है कि उनके पास इलेक्ट्रॉनिक रूप में एक व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड हो, जिसे पूरे देश में कहीं से भी देखा जा सकता है। 

Also Read नई पार्टी का गठन करेंगे स्वामी प्रसाद मौर्य, नाम और झंडा लॉन्च किया

स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं, संस्थानों ने सभी प्रकार की भौगोलिक और मानव निर्मित बाधाओं को कम किया। यह प्रणाली जब आई आई टी (IIT) कानपुर के परिसर में चालू होती है, तो यह न केवल अपने स्वयं के कर्मचारी और उनके परिवारों के लिए बल्कि संस्थान पर निर्भर अन्य लोगों के लिए इलेक्ट्रॉनिक व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड (PHR) का निर्माण सुनिश्चित करेगी। PHR के निर्माण के अलावा मशीन लर्निंग तकनीकों और उपकरणों का उपयोग करके उत्पन्न स्वास्थ्य डेटा पर शोध, भविष्य में व्यक्तिगत दवा की पेशकश करने के लिए स्वास्थ्य विश्लेषण के नए रास्ते खोल सकता है। अनुसंधान पर हमारा एक फोकस कोविड-19 संक्रमण से उबरने के दौरान सभी रोगियों की स्वास्थ्य का विश्लेषण करना होगा ताकि जोखिम वाले मामलों की पहचान करने के लिए श्वसन, हृदय और अन्य शरीर प्रणालियों पर इसके प्रभावों का अध्ययन किया जा सके और विनाशकारी परिणामों को रोकने के लिए उचित समय पर हस्तक्षेप किया जा सके।

एसजीपीजीआई के मेडिकल डॉक्टरों के सहयोग से हमारे अध्ययन के परिणाम से स्मार्ट सिटी परियोजनाओं में विकास की संभावना पैदा होगी, जहां स्मार्ट स्वास्थ्य प्रौद्योगिकियां जैसे क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग कर इंटरनेट ऑफ मेडिकल थिंग्स वितरणयोग्य होंगी, साथ ही दूर दराज के लोगों के लिए संभावित अनुप्रयोग रिमोट मॉनिटरिंग मरीजों (RPM) के लिए टेली-आईसीयू परियोजनाएं भी हैं । 

उद्घाटन समारोह में प्रोफेसर गणेश, उप निदेशक, आईआईटीके, प्रोफेसर हरीश, डीओआरडी(DoRD) , आईआईटी कानपुर , हेड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग प्रोफ० राजेश हेगड़े और डॉ ममता व्यास, सीएमओ, स्वास्थ्य केंद्र, आईआईटी कानपुर सहित अन्य ने भी भाग लिया।

Related Posts

Follow Us