एसडीएम के ट्रांसफर में आई राजनीतिक बू

एसडीएम के ट्रांसफर में आई राजनीतिक बू

ग्रामीणों ने बताया एसडीएम के तबादले को राजनीतिक षड्यंत्र, विधायक महोदया ने आधी रात को दिया धरना दूसरे दिन एसडीएम साहब की ट्रांसफर जोधपुर।। बालेसर उपखंड मुख्यालय पर पत्थर की खदानों में ट्रकों में भरे माल की रॉयल्टी नाके पर रात्रि 7:00 बजे बाद ट्रकों की रसीद काटने से मना करने के बाद शेरगढ़ विधायक

ग्रामीणों ने बताया एसडीएम के तबादले को राजनीतिक षड्यंत्र, विधायक महोदया ने आधी रात को दिया धरना दूसरे दिन एसडीएम साहब की ट्रांसफर

जोधपुर।। बालेसर उपखंड मुख्यालय पर पत्थर की खदानों में ट्रकों में भरे माल की रॉयल्टी नाके पर रात्रि 7:00 बजे बाद ट्रकों की रसीद काटने से मना करने के बाद शेरगढ़ विधायक मीना कंवर राठौड़ ने अपने पति उम्मेद सिंह राठौड के साथ तुलाई करने के स्थान पर बालेसर उपखंड अधिकारी महावीर सिंह जोधा के विरुद्ध धरने पर बैठ गए। पूर्व में मीटिंग में यह तय कर लिया था सवेरे 7 बजे से रात्रि 7 बजे तक कार्य किया जाएगा। सभी कार्य महावीर सिंह जोधा ने 7:00 बजे के बाद बंद करवा दिया था इसी वजह से पत्थर व्यवसायियों में रोष फैल गया आपको बता दें कि उससे एक दिन पहले ही बालेसर पत्थर खनन यूनियन की बैठक कर जोधा ने 7:00 बजे से शाम 7:00 बजे तक काम करने के लिए बताया था उसके बावजूद भी पत्थर खनन व्यवसाइयो ने नियमों को ताका और विधायक साहब को बुलाकर धरने पर बैठ गए। उसके बाद जिला कलेक्टर के हस्तक्षेप से ट्रकों में भरे माल को तुलवा कर रवाना किया गया। राज्य सरकार ने विधायक के धरना देने के प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए जिला कलेक्टर द्वारा कार्रवाई करते हुए बालेसर एसडीएम जोधा को तुरंत आदेश जारी कर जोधपुर में कोविड-19 के तहत जिला स्तर पर महावीर सिंह जोधा को लगाया एवं बालेसर उपखंड का कार्यभार बालेसर तहसीलदार को दिया गया।

Also Read BREAKING : बाल बाल बचे सीएम योगी हेलीकॉप्टर से  टकराई चिड़िया टला बड़ा हादसा

एसडीएम साहब के तबादले से लोगों में फूटा गूसा

जोधा का ट्रांसफर होते ही सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों में गुस्सा फूटा और लोगों ने बताया कि बालेसर एसडीम का ट्रांसफर एक राजनीतिक षड्यंत्र है।

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही समाचार पत्रों के माध्यम से महावीर सिंह जोधा की इतनी तारीफ की गई की जोधा पूरे जिले में सर्वश्रेष्ठ एसडीएम माने गए।

राजेन्द्र राठौड़

Follow Us