परिचित बनकर खाते से उडाए लाखों

परिचित बनकर खाते से उडाए लाखों

बयाना। बयाना कस्बा सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी अब बैंक उपभोक्ताओं व एटीएम कार्ड धारकों को अपनी बातों में उलझाकर धोखाधडी करके रूप्ए उडाने व सायबर ठगी की वारदातें थमने का नाम नही ले रही है। पुलिस की ओर से लोगों को बार बार जागरूक करने के बावजूद ऐसी वारदातें नही थम रही है। यहां

बयाना। बयाना कस्बा सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी अब बैंक उपभोक्ताओं व एटीएम कार्ड धारकों को अपनी बातों में उलझाकर धोखाधडी करके रूप्ए उडाने व सायबर ठगी की वारदातें थमने का नाम नही ले रही है। पुलिस की ओर से लोगों को बार बार जागरूक करने के बावजूद ऐसी वारदातें नही थम रही है। यहां तक की गांव के भोले भाले लोगों के बजाए अब तो पढे लिखे लोग भी सायबर ठगों का शिकार बन रहे है। ऐसा ही एक मामला बुधवार को यहां फिर सामने आया है।

जिसमें अज्ञात सायबर ठग ने एक सरकारी शिक्षक को अपना शिकार बनाकर उसके खाते से 11 बार में 3 लाख 80 हजार रूपए उडा दिए। जिसका पता उसे मोबाइल फोन पर मिले मैसेजों से लगा।उपखंड के गांव जीवद निवासी गिर्राजसिंह जाट ने बुधवार को यहां पुलिस कोतवाली में रिपोर्ट देते हुए बताया कि 9 जून मंगलवार को दोपहर बाद उनके मोबाइल फोन पर अज्ञात ठग ने फोन कर उन्हें अपनी बातों में उलझा लिया और बैंक खातें व एटीएम से संबंधित जानकारीयां लेकर उनके खाते से लगातार 11 बार में 3 लाख 79 हजार 547 रूप्ए निकाल लिए है।  पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।

  • संवाददाता राजीव झालानी

Also Read मानवता शर्मसार : मजबूर पिता ने 25 किलोमीटर बेटे के शव को कंधे पर रख अस्पताल से घर पहुंचाया

Follow Us