नयी दिल्ली। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी सोमवार को जम्मू कश्मीर में बनिहाल-काजीगुंड सुरंग का उद्घाटन करेंगे। यह सुरंग प्रसिद्ध जवाहर सुरंग के विकल्प का काम करेगी और इस पर 12 महीने यातायात चल सकेगा। जवाहर सुरंग को सर्दियों में बर्फबारी के कारण बन्द कर दी जाती है।

मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि बनिहाल-काजीगुंड सुरंग जवाहर सुरंग वाले स्थल से करीब साढे 400 मीटर नीचे है। इस सुरंग के निर्माण पर करीब 2000 करोड़ रुपए की लागत आई है और इसे अत्यधिक आधुनिक तकनीकी से बनाया गया है।

उन्होंने बताया की इस सुरंग से जम्मू-श्रीनगर के बीच यातायात किसी भी मौसम बाधित नहीं होगा और जवाहर टनल की तरह यहां वाहनों की आवाजाही तीखे मोड़ों से नहीं होगी। यह सुरंग करीब साढे आठ किलोमीटर लम्बी है जबकि जवाहर सुरंग ढाई किलो मीटर लंबी है और इसका निर्माण 1956 में किया गया था।

श्री गडकरी का कल ही श्रीनगर में क़रीब 42 किलोमीटर लंबे रिंग रोड की आधारशिला रखने का भी है। मंगलवार को वह जोजिला सुरंग पर कार्य प्रगति का अवलोकन करेंगे। इस सुरंग पर अक्टूबर 2020 में काम शुरू हुआ था और इसके निर्माण से जोजिला दर्रा पर भारी बर्फबारी श्रीनगर लेह के बीच सर्दियों में छह माह के लिए आवाजाही बंद हो जाती थी। इस सुरंग के बनने से हर मौसम में श्रीनगर-लेह की यात्रा की जा सकेगी।