झांसी – उत्तर प्रदेश के ललितपुर में एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म मामले की निष्पक्ष जांच की मांग करने पहुंचे झांसी समाजवादी पार्टी (सपा) जिलाध्यक्ष महेश कश्यप सहित तकरीबन 250 अज्ञात लोगों के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दिया है।
पूरे मामले की जानकारी होने गुरूवार को होने के बाद सपा जिलाध्यक्ष ने को इसे लोकतंत्र पर हमला बताया और कहा कि मेरे अलावा 250 अन्य लोगों पर पुलिस ने धारा 144 तोड़ने और पीड़िता का नाम उजागर करने के मामले में मुकदमा दर्ज किया है। उन्होंने कहा कि पीड़ित का नाम मैंने नहीं बल्कि पुलिस ने अपनी ही रिपोर्ट में उजागर किया है। मेरे पर आरोप लगाने वाली पुलिस खुद ही इस मामले में पूरी तरह से दोषी है। उन्होंने अपने पक्ष में तर्क देते हुए कहा कि उन्होंने लड़की का नाम उजागर नहीं किया, पुलिस यह काम अपनी रिपोर्ट में पहले ही कर चुकी है। ऐसे में यदि मुकदमा लिखा भी जाना है तो पुलिस के खिलाफ लिखा जाएं।
श्री कश्यप ने कहा कि यह सच है कि हमारे साथ काफी लोग थे। जब किसी बड़ी पार्टी के नेता पर आरोप लगता है तो लोगों का आक्रोश जाग उठता है और यही कल हुआ। लोग सड़कों पर थे और हम लोगों ने जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से निवेदन करते हुए पीड़िता को न्याय दिलाने और निर्दोषों पर कार्रवाई न करने का ही निवेदन किया है लेकिन सही मायने में तो पुलिस दोषी है कि उन्होंने नाबालिग पीड़िता का नाम उजागर किया जबकि उन्हें पीड़िता का नाम बदलकर लिखना चाहिए था। यदि हम पर मुकदमा लिखा है तो हमसे पहले इस मुकदमे के हकदार पुलिसकर्मी हैं। पुलिस और प्रशासन पर भी मुकदमा लिखा जाना चाहिए । हम लोग पीड़िता के पक्ष में हैं , उसे हर हाल में न्याय मिलना ही चाहिए, लेकिन निर्दोषों के खिलाफ कार्रवाई न हो यह हम आज भी निवेदन कर रहे हैं।
गौरतलब है कि ललितपुर में हुए दुष्कर्म कांड की जानकारी के बाद बीते रोज़ झांसी जिले के समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष ललितपुर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से मामले में निष्पक्ष जांच का निवेदन करने गए थे। उनके साथ करीब ढाई सौ लोग भी थे। जनपद में त्योहारों को देखते हुए पहले ही धारा 144 लगाई जा चुकी है। इसका उल्लंघन होते देख पुलिस ने महेश कश्यप समेत ढाई सौ अज्ञात सपाइयों पर धारा 144 के उल्लंघन करने व नाबालिग पीड़िता का नाम उजागर करने के चलते मुकदमा दर्ज कर लिया।

वार्ता