चमोली हिमस्खलन: राहत और बचाव में हर संभव सहयोग कर रहा है केन्द्र – अमित शाह

नई दिल्ली। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज राज्यसभा को आश्वस्त किया कि केन्द्र सरकार उत्तराखंड के चमोली में हिमस्खलन के कारण हुई तबाही के बाद स्थिति को सामान्य बनाने तथा राहत और बचाव कार्यों में राज्य सरकार के साथ पूरी तरह समन्वय कर सभी जरूरी कदम उठा रही है।

अमित शाह ने मंगलवार को राज्यसभा में इस हादसे पर स्वत वक्तव्य देते हुए कहा कि उत्तराखंड सरकार से प्राप्त सूचना के अनुसार अभी तक 20 लोगों की जानें जा चुकी हैं और 6 लोग घायल हैं ।

जानकारी के अनुसार कुल 197 व्यक्ति लापता हैं जिनमें एनटीपीसी की निर्माणाधीन परियोजना में कार्यरत 139 , ऋषिगंगा परियोजना में कार्यरत 46 कर्मचारियों के अलावा और 12 ग्रामीण शामिल हैं। राज्य सरकार ने यह सूचना विभिन्न स्रोतों के माध्यम से इकठ्ठा की है, जिसमे परिवर्तन संभव है।

ये भी पढ़ें- क्या टाली जा सकती थी चमोली में ग्लेशियर फटने से हुई तबाही?

उन्होंने कहा कि एनटीपीसी परियोजना में कार्यरत 12 व्यक्तियों को एक सुरंग से सुरक्षित बचा लिया गया है। ऋषि गंगा परियोजना में भी 15 व्यक्तियों को सुरक्षित बचाया गया है। एनटीपीसी परियोजना की एक दूसरी सुरंग में लगभग 25 से 35 लोगों के फंसे होने का अनुमान लगाया जा रहा है । इन लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए बचाव अभियान युद्ध स्तर पर जारी है साथ ही साथ लापता व्यक्तियों को ढूँढने का कार्य भी बड़े पैमाने पर किया जा रहा है।

अमित शाह ने कहा कि राज्य सरकार ने जान गंवाने वालों के परिजनों के लिए 4 लाख रुपए की सहायता की घोषणा की है। घटनास्थल के नजदीक 13 छोटे गाँवों से, एक पुल बह जाने कारण, संपर्क कट गया है । इन गावों के लिए रसद और जरूरी मेडिकल सामान हेलीकोप्टर द्वारा लगातार पहुंचाया जा रहा है ।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सरकार ने बताया है कि बाढ़ से निचले क्षेत्र में कोई खतरा नहीं है और साथ ही जल स्तर में भी कमी आ रही है । केंद्र और राज्य की सभी संबंधित एजेंसियां स्थिति पर कड़ी निगाह रखे हुए हैं।

इन्पुट- यूनीवार्ता