मूर्तियों की बिक्री घटने से खड़ा हुआ आर्थिक संकट

by abhishek

कौशांबी:भरवारी, नवरात्रि पर पूर्व वर्षो की भांति इस बार मूर्तियों की मांग आधे से भी कम हो जाने से मूर्तिकारों के सामने आर्थिक संकट खड़ा होता नजर आ रहा है। पिछले वर्षों तक शहर , कस्बों के अतिरिक्त गांवों में भी लोग पंडाल बनाकर मिट्टी से बने देवी देवताओं की मूर्तियां बिठाते रहे हैं लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के कारण सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण के बचाव के उपाय के साथ ही पंडाल लगाए जाने की शर्त रखी है जिस कारण इस बार 50 से 60 प्रतिशत मूर्तियों की मांग कम हो गयी।

भरवारी मूरतगंज सड़क के बगल सैंता गांव के पास मूर्ति बना रहे मूर्तिकार रवी कुमार ने बताया कि पिछले वर्ष वह लगभग 80 मूर्तियां देवी देवताओं की बिक्री किये थे ,जिनका औसत कीमत तीन से सात हजार रहा। जब कि इस बार अभी तक मात्र 25 मूर्तियों की ही बिक्री हो पायी है, जिससे साल भर तक परिवार का खर्च चलाना मुश्किल होगा।

रिपोर्ट- श्रीकान्त यादव

Related Posts