कानपुर। शहर की शान लाल इमली इस समय पूरी तरह बंद हो चुकी है। जहां देर रात एक कर्मचारी की तबादले की सूचना पाकर मौत हो गई थी। जिसके बाद शुक्रवार को मृतक कर्मचारी के परिजन और उसके अन्य कर्मचारियों ने मृतक की अर्थी लेकर लाल इमली पहुँच गए। इस दौरान कर्मचारियों ने मेंनगेट के बाहर मृतक का शव रख कर प्रदर्शन किया।
कर्मचारियों का कहना है कि 28 महीने का वेतन अभी तक नहीं मिला है। जिससे लाल इमली के कर्मचारी अब भुखमरी की कगार पर हैं। वहीं कई लोगों ने आत्महत्या भी की है। अगर हमारी मांगे पूरी नहीं की गई तो हम सड़कों पर उतरकर आंदोलन को मजबूर होंगे। जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

रिपोर्ट : कौस्तुभ शंकर मिश्रा