कायमगंज(फर्रुखाबाद):: कायमगंज नगर टाउन, एरिया कंपिल व शमशाबाद सहित पूरे ग्रामीण क्षेत्र में इस समय विचित्र बुखार डेंगू का कहर दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है । किंतु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कायमगंज तथा क्षेत्र के दूसरे उप स्वास्थ्य केंद्रों में उपचार सुविधाओं तथा दवाइयों का भारी भाव बना हुआ है ।यह कमी शासन स्तर से है या स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से, यह तो सत्तासीन तथा सक्षम अधिकारी ही भली प्रकार समझ रहे होंगे ।किंतु इस समय पूरे क्षेत्र में डेंगू बुखार महामारी की तरह फैलता जा रहा है ।

आज नगर कायमगंज सीएचसी में बुखार पीड़ितों की पिछले दिनों की अपेक्षा कुछ ज्यादा ही संख्या दिखाई दे रही थी । इसके अतिरिक्त भोले-भाले ग्रामीण बुखार से पीड़ित होने पर प्राइवेट अस्पतालों एवं झोलाछाप डॉक्टरों से भी इलाज कराने को मजबूर हो रहे हैं। इस मजबूरी का फायदा उठा कर झोलाछाप तो मनमानी फीस वसूल कर मरीजों की जिंदगी से ही खिलवाड़ करते दिखाई दे रहे हैं। बढ़ते डेंगू बुखार के प्रकोप के बावजूद भी नगर क्षेत्र टाउन एरिया एवं ग्राम पंचायतों से संबद्ध ग्रामों में अब तक मच्छरों के सफाई के लिए साथ ही दूसरे मौसमी जहरीले कीटों से जन सामान्य को बचाने के लिए कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव तक नहीं किया जा रहा है।

जिनके पनपने से यह रोग लगातार तेजी पकड़ता जा रहा है। किसान नेताओं एवं दूसरे संगठनों ने मांग करते हुए कहा है कि जितनी जल्दी हो सके जन स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए फाफिंग मशीन चलवाने साथ ही हर एक गली, नाली एवं जलभराव वाले स्थानों पर कीटनाशक दवाओं का छिड़काव कराया जाना चाहिए।

आज अकेले सरकारी अस्पताल कायमगंज में ही दोपहर के लगभग 1:00 बजे तक उपचार की उम्मीद से जो मरीज आए। रक्त परीक्षण के बाद डेंगू बुखार पीड़ित पाए गए। यहां आई राना पत्नी वाहिद कुबेरपुर इसी गांव के बाबू पुत्र महिमखां एवं फरीना पत्नी शकील निवासी बहबलपुर कंपिल, प्राची पुत्री ओम प्रकाश पाठक निवासी गांव घसिया चिलौली कायमगंज तथा नगर कायमगंज के ही मोहल्ला चिलौली पठान निवासी साजिद पुत्र दराज खान आदि अन्य मरीज डेंगू पीड़ित पाए गए । इनमें से हालत बिगड़ती देख साजिद को रेफर कर दिया गया । बाकी सभी का इलाज यही किए जाने का प्रयास तो किया जा रहा था। किंतु इस अस्पताल में जो दवाइयां चिकित्सक लिख कर दे रहे हैं । वो दवाइयां मरीज के साथ आए उनके घर वालों को बाहर से खरीद कर लानी पड़ रही हैं। इस तरह महामारी की तरह पैर पसार रहे डेंगू से पीड़ित लोग सरकारी अस्पताल की उदासीनता लापरवाही, दवाइयों की कमी की चर्चा फैलने के कारण प्राइवेट डॉक्टरों के साथ ही झोला छापों से इलाज कराने के लिए मजबूर हो रहे हैं ।यदि पूरे क्षेत्र से डेंगू पीड़ितों की सही संख्या की जानकारी की जाए तो एक लंबी लिस्ट बन जाएगी।

  • रिपोर्ट : दानिश खान