म्यांमार में प्रतिबंध के बावजूद बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारी, पुलिस के साथ टकराव

नेप्यीतॉ। म्यांमार में पांच से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर लागू प्रतिबंधों का उल्लंघन कर मंगलवार को बड़ी संख्या में लोग सैन्य तख्तापलट का विरोध करने के लिए सड़कों पर उतर आये और कई स्थानों पर उनका पुलिस के साथ टकराव हुआ।

प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को पानी की बौछारों का इस्तेमाल करना पड़ा। सेना ने यांगून और मांडले शहरों में कर्फ्यू लगा दिया है और पांच से अधिक लोगों के एक जगह एकत्रित होने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

ये नए नियम देश में सैन्य तख्तापलट में सुश्री आंग सान सू ची की चुनी हुई सरकार को अपदस्थ करने और सुश्री सू ची तथा अन्य वरिष्ठ नेताओं की नजरबंदी के खिलाफ तीन दिन तक बड़े पैमाने पर विरोध-प्रदर्शन होने के बाद लगाये गये हैं।

ये भी पढ़ें- म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के विरोध में लगातार तीसरे दिन प्रदर्शन

म्यांमार के सरकारी टेलीविजन ने सोमवार को चेतावनी दी थी कि कानून तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

विरोध-प्रदर्शन को खत्म करने के लिए सेना की ओर से निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। कई लोगों का मानना है कि सेना अतीत के रक्तपात को दोहराना नहीं चाहती है इसलिए वह कड़े कदम नहीं उठा रही है। सैन्य नेता मिन आंग ह्लाइंग ने सोमवार को चेतावनी दी कि कोई भी कानून से ऊपर नहीं है और उल्लंघन करने वालों को दंडित किया जाएगा हालांकि उन्होंने प्रदर्शनकारियों को कोई सीधी धमकी नहीं दी।

देश में लोकतंत्र बहाली की मांग को लेकर प्रदर्शनकारी मंगलवार को सड़कों पर लौट आये। बागो शहर में विरोध-प्रदर्शन के चौथे दिन पुलिस को भारी भीड़ का सामना करना पड़ा और उन्हें तितर बितर करने के लिए पानी की बौछारों का इस्तेमाल करना पड़ा।

ये भी पढ़ें- अमेरिका ने म्यांमार पर प्रतिबंध लगाने की धमकी दी

राजधानी नेप्यीतॉ में भी प्रदर्शनकारियों पर पानी की बौछारें डाली गयीं जिससे कुछ लोगों के चोटिल होने की भी रिपोर्ट है।

म्यांमार के कई अन्य शहरों में प्रदर्शनकारियों के बड़ी संख्या में इकट्ठा होने की रिपोर्ट मिल रही हैं।

इन्पुट- यूनीवार्ता