स्पेशल: सदन की मर्यादा

by shubham

कृषि संबंधी विधेयक दोनों सदनों में पारित कर दिया गया है | रविवार को उच्च सदन में जब इस बिल को रखा गया तो, सदन में विपक्ष द्वारा हंगामा किया गया | विपक्षी सांसदों ने रूल बुक को फाड़कर माइक तोड़ने का प्रयास किया, जो सदन की गरिमा को तार-तार कर देने वाला था | गौरतलब है कि है कि आठ सदस्यों को सदन से निलंबित कर दिया गया है |

कृषि उपज, व्यापार और वाणिज्य संबंधी विधेयक 2020 को निम्न सदन लोकसभा में कुछ दिन पहले ही पारित कर लिया गया था, लेकिन जब उस विधेयक को उच्च सदन (राज्यसभा) में रखा गया तो हंगामा खड़ा हो गया | कुछ सदस्यों ने इस दौरान शोर शराबा करते हुए, जो व्यवहार किया हुआ वह अशोभनीय था | उच्च सदन में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई गई |

विपक्षी सदस्य सभापति की व्यवस्था से संतुष्ट नहीं थे, तो उन्हें नियम के तहत संसद की गरिमा में रखकर अपनी बात कहनी या विरोध प्रकट करना चाहिए था | कृषि बिल को लेकर विपक्ष के सदन के भीतर एवं बाहर ढेर सारे सवाल हैं | कृषि बिल के विरोध में अकाली दल से सदस्य एवं पूर्व मंत्री हरसिमरत कौर ने इस्तीफा दे दिया | वहीं सरकार विपक्ष को आश्वस्त करते हुए कहा है कि इस बिल से ना तो न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) ना ही मंडी की व्यवस्था खत्म होगी |

वास्तव में सरकार एवं विपक्ष से अपेक्षा की जाती है कि वे संसद की गरिमा एवं मर्यादा का सम्मान करें | तथा विपक्ष को कोई यह समझना
होगा कि शोर-शराबे से उनके असली मुद्दे गायब हो जाएंगे तथा सरकार को विपक्षी सदस्यों से संवाद स्थापित कर सदन को सुचारू रूप से चलाने की आवश्यकता है|

रिपोर्ट-कुलदीप सिंह

Related Posts