जालौन : उत्तर प्रदेश के जनपद जालौन की जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने जालौन जनपद की जनता की अच्छी लोकप्रियता हासिल की है।

आपको बता दें कि कि जिलाधिकारी ने आज यमुना नदी के बाढ़ प्रभावित क्षेत्र ग्राम मदारपुर, हीरापुर, मंगरोक का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि बाढ़ से बचने के लिए लोग शेल्टर होम में रहे। उन्होंने निर्देशित किया के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर बाढ़ की स्थिति उत्पन्न होने पर पहुंचाया जाए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य टीमें मौके पर पहुंचकर लोगों को उपचार करें। उन्होंने कहा के कहीं पर भी आवश्यक दवाओं एवं उपकरण की कमी ना होने दी जाए। उन्होंने कटान रोकने के लिए बचाव कार्य जारी रखने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि यहां प्रशासन की ओर से सभी जरूरी इंतजाम किए गए हैं जिलाधिकारी ने सेतु निगम द्वारा बनाया गया पुल पर जाकर कटाने की स्थिति को भी देखा। उसके बाद निर्देश दिए गए क्या बंधे पर कटान रोकने के लिए बचाव कार्य जारी रखना सुनिश्चित करें। यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से नदी के किनारे गांव में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो सकती है ऐसे में जिलाधिकारी ने एमएसबी इंटर कॉलेज का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि खाने-पीने का उचित प्रबंध कराया जाएगा रहने की भी व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने संबंधित को निर्देशित करते हुए कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में नाव की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि ऐसे क्षेत्रों में प्रकाश रोशनी की व्यवस्था सुनिश्चित रहे।

उन्होंने कहा कि संबंधित सभी सीएससी व पीएससी में सांप काटने वाली दवा उपलब्ध रहें। उन्होंने कहा कि अस्थाई हॉस्पिटल भी बनाए जाएं ताकि ग्रामीणों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराई जा सके। उन्होंने कहा कि पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम का भी संचालन नियमित रूप से किया जाए। उन्होंने कहा इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए।

नदी के किनारे प्रत्येक गांव के 10 से 15 व्यक्तियों के मोबाइल नंबर रजिस्टर में अंकित किए जाएं और प्रतिदिन बाढ़ से संबंधित सूचनाएं निरंतर लेते रहे। उन्होंने संबंधित अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि जिस जगह सड़क पर पानी अधिक है वहां पर वार्निंग बोर्ड लगाया जाए। उन्होंने ग्रामीण वासियों से कहा कि नदी के किनारे कोई भी व्यक्ति खास तौर पर बच्चे नहीं आने चाहिए। इस समय पर पुलिस अधीक्षक रवि कुमार, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व पूनम निगम, उप जिला अधिकारी कौशल कुमार, कालपी तहसीलदार बलराम बाढ़ अभियंता सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

रिपोर्ट : भूपेंद्र सिंह