अस्पताल कर्मी की शराब पार्टी का वायरल वीडियो मामले में चार नमाजद व अन्य अज्ञात पर दर्ज हुई प्राथमिकी.

सुपौल : बीते 8 सितम्बर को सुपौल के त्रिवेणीगंज अनुमंडलीय अस्पताल के एकाउंटेंट का शराब पीते दो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।मामले में चार पांच दिनों तक चली गहन जाँच के बाद त्रिवेणीगंज पुलिस ने वायरल वीडियो में शामिल अस्पताल के एकाउंटेंट सुभाष सिंह,आउटसोर्सिंग के सुपर- वाइजर पवन कुमार रजक,थाना क्षेत्र के लालपट्टी वार्ड नम्बर 16 निवासी सर्वेश कुमार यादव,थाना क्षेत्र के बाजितपुर निवासी अर्जुन सरदार सहित अन्य अज्ञात के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज किया गया है साथ ही दर्ज प्राथमिकी में वायरल वीडियो में शामिल व्हाइट पेंट वाले संभावित अस्पताल के प्रबंधक प्रेम रंजन औऱ जूता पहने हुए अन्य व्यक्ति को भी आरोपी माना गया है वहीं दर्ज प्राथमिकी में अस्पताल के प्रभारी जो जानते हुए भी इस मामले को छिपाने का प्रयास किए हैं उनको भी दोषी माना गया है थानाध्यक्ष संदीप कुमार सिंह ने मामले के संबंध में जानकारी देते हुए यह भी बताया कि वायरल वीडियो,संकलित साक्ष्य औऱ गहन जाँच के बाद थाना कांड संख्या 299/21 दर्ज कर अनुसंधान प्रारंभ कर दिया गया है वीडियो में शामिल दर्ज प्राथमिकी में नामजद आरोपी को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

आपको बता दें कि अनुमंडलीय अस्पताल त्रिवेणीगंज के एकाउंटेंट सुभाष सिंह और आउटसोर्सिंग के सुपरवाइजर पवन रजक का शराब पीते दो वीडियो बीते 8 सितम्बर को वायरल हुआ है जिसमें पहला वीडियो अस्पताल के सामने स्थित एक दवा दुकान का बताया जा रहा है तो वहीं दूसरा वीडियो अस्पताल परिसर स्थित एकाउंटेंट के सरकारी आवास का बताया जा रहा है जिसमें एकाउंटेंट सुभाष सिंह अपने साथियों के साथ मांस भात के साथ शराब का सेवन कर रहे हैं।

वीडियो वायरल होने के बाद जब वायरल वीडियो के आधार पर खबर मीडिया आते ही एकाउंटेंट सुभाष सिंह,आउटसोर्सिंग के सुपरवाइजर पवन कुमार रजक औऱ अस्पताल के प्रबंधक प्रेम रंजन तीनों अस्पताल से गायब हो गए।साथ ही अस्पताल के सामने स्थित जिस दवा दुकान का पहला वीडियो बताया जा रहा है उसके कथित दवा दुकानदार सर्वेश कुमार यादव भी अपनी दुकानों को बंद कर गायब हैं तो वहीं अस्पताल में सब दिन दिखने वाले थाना क्षेत्र के बाजितपुर निवासी अर्जुन सरदार भी वीडियो वायरल होने के बाद से अस्पताल परिसर में दिखाई नहीं दे रहे हैं अचानक ही इन सबों का इस तरीके से गायब होना वायरल वीडियो में दिखाए गए करतूतों के सत्यता की ओर ईशारा करता है। बहरहाल स्थानीय पुलिस ने इन सभी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर लिया है औऱ अब यह पुलिस अनुसंधान का विषय है अनुसंधान के उपरांत ही कुछ कहा जा सकता है लेकिन प्राथमिकी दर्ज होने के बाद इन सबों की मुश्किलें बढ़ती नज़र आ रही है।

रिपोर्ट:–संतोष कुमार,सुपौल