कृषि सुधार कानून के विरोध में पंजाब के किसानों का गुस्सा थमने का नाम नहीं ले रहा है | पंजाब में लगातार नौवें दिन भी किसान संगठनों ने रेल रोको अभियान जारी रखा | किसान संगठनों का कहना है कि उनका प्रदर्शन सिर्फ पंजाब तक ही सीमित नहीं रहेगा बल्कि दिल्ली के आस पास के इलाकों में भी होगा |

केंद्र सरकार द्वारा किसान बिल 2020 पास कराये जाने के बाद से ही विपक्ष इसे किसान विरोधी बता रहा है | जिसके बाद अब अलग अलग किसान संगठन भी इस बिल के विरोध में कूद पड़े हैं | किसान यूनियन की मांग है कि सरकार MSP को अनिवार्य करके बिल में शामिल करे |

पंजाब में किसान बिल का सबसे ज्यादा विरोध हो रहा है | कांग्रेस, अकाली दल समेत अन्य दल भी किसान संगठनों के पक्ष में सरकार विरोधी प्रदर्शन कर रहे हैं | इससे पहले दिल्ली में इंडिया गेट पर कुछ राजनीतिक प्रदर्शनकारियों ने ट्रैक्टर भी फूंका था | पंजाब में किसान सगठनों का कहना है कि उनका प्रदर्शन 5 अक्टूबर तक ऐसे ही चालता रहेगा | उसके बाद आगे की रणनीति तय की जाएगी |

इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि केंद्र सरकार किसानों को खून के आंसू रुला रही है |