logo
यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के एक और करीबी पर पड़ा आयकर का छापा
 

लखनऊ। संयोग कर लीजिए या जानबूझ कर की जा रही कार्यवाही, लेकिन इन दोनों का ही शिकार सिर्फ समाजवादी पार्टी से जुड़े लोग और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के करीबी ही हो रहे है। कानपुर के इत्र कारोबारियों के बाद अब अगला नंबर ACE ग्रुप के मालिक अजय चौधरी का लगा है। ACE ग्रुप के मालिक अजय चौधरी के दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और आगरा में स्थित ठिकानों पर मंगलवार सुबह से आयकर विभाग ने छापेमारी शुरू कर दी है। 

अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार आयकर विभाग के अधिकारी ACE ग्रुप के कॉर्पोरेट ऑफिस के अलावा चौधरी के आवास और प्रॉजेक्ट्स पर भी पहुंचे हैं और करीब 40 ठिकानों पर तलाशी ले रही है।

गौरतलब है कि छापेमारी तब चर्चा में आयी जब समाजवादी इत्र लांच करने वाले कानपुर के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर पर छापे मारी में लगभग 200 करोड़ की नगदी बरादम की गई। इसके बाद सपा से विधान परिषद के विधायक पम्पी जैन के कन्नौज स्थित ठिकानों पर भी छापोमारी की गई। वहीं से भी भारी मात्रा में नगदी बरामद होने के साथ ही विदेश में संपत्ति होने का पता चला था। 

जब कानपुर में पीयूष जैन के ठिकानों पर छापेमारी हुई थी तब अखिलेश ने पीयूष को भाजपा का आदमी बताते हुए पूरे मामले पल्ला झाड़ लिया था। लेकिन पम्पी जैन पर छापेमारी के बाद अखिलेश यादव डिफेंस मोड में आ गये है। उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र सरकार उनकी पार्टी को बदनाम करने के लिए छापेमारी की कार्यवाही करवा रही है। इसके साथ उन्होंने चुनाव आयोग से उत्तर प्रदेश में छापेमारी का कार्यवाही रुकवाने के लिए भी अपील की है।

Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें व टेलीग्राम ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें।