जैसलमेर : राजस्थान में जैसलमेर जिले के सुखनगर में स्थित एक निजी कम्पनी के पवन ऊर्जा संयंत्र में कल रात आग लगने से करोड़ों रुपये का नुकसान हो गया।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार के बडोड़ा गांव के सुखसिंह नगर आबादी क्षेत्र से महज 200 मीटर पर स्थित सुजलान कम्पनी के एक पवन ऊर्जा संयंत्र में भीषण आग लग गई । जिससे पवन चक्की के विंड टरबाइन एवं हब आग से जलकर खाक हो गए। तेज आग से पवन चक्की की एक ब्लेड भी जलकर नीचे गिर गई। आग इतनी भयानक थी की आग की लपटें कई किमी दूर तक नजर आ रही थी।

सूत्रों ने बताया कि हादसे के दौरान नजदीक में कोई नहीं होने के कारण किसी भी प्रकार की जनहानि नहीं हुई। आग लगने के कारण अभी पता नहीं चल पाए है। बताया जा रहा है कि विंड टरबाइन में शॉर्ट सर्किट होने से यकायक एक धमाका हुआ और आग की लपटें उठना शुरू हो गई। यह टरबाइन काफी ऊंचाई पर स्थिति है। ऐसे में इसकी आग काफी दूरी तक लोगों को नजर आई। इस विंड टरबाइन की कीमत करीब साढ़े आठ करोड़ रुपये बताई जा रही है। गौरतलब है कि पहले भी इस प्रकार की घटनाएं घटित हो चुकी हैं।

जैसलमेर में हमेशा चलने वाली आंधियों से भले ही लोगों को कई दिकक्तों का सामना करना पड़ता हो, लेकिन ये तेज आंधियां ही पवन ऊर्जा उत्पादन के मुख्य स्रोत मानी जाती हैं।

जैसलमेर में इस समय 3509.42 मेगावाट क्षमता की पवन ऊर्जा उत्पान की क्षमता है। इसके लिए जिले में अलग-अलग क्षमता की 2984 विंड टरबाइन स्थापित है। एक विंड टरबाइन से 2.5 किलोवाट से 1.5 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो सकता है। एक मेगावाट क्षमता की टरबाई करीब साढ़े पांच करोड़ में स्थापित होती है। बताया जा रहा है कि कल रात जली टरबाइन की क्षमता 1.5 मेगावाट की थी।
वार्ता