रामपुरा(जालौन) :- बाढ़ के पानी से घिरे गांव में फंसी प्रसव पीड़िता को स्ट्रीमर द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रामपुरा पहुंचाने पर ग्रामीणों ने प्रशासनिक अधिकारियों की जमकर तारीफ की है। रामपुरा थाना अंतर्गत नदिया पार के दर्जनभर गांव पानी से घिरे होने के कारण संपूर्ण सुविधाओं एवं व्यवस्थाओं से अलग-थलग पड़ गए हैं। ग्रामीणों के भोजन एवं जीवन की रक्षा के लिए उप जिलाधिकारी माधौगढ़ शालिगराम, क्षेत्राधिकारी साजदा नसरीन, थाना प्रभारी रामपुरा इंस्पेक्टर जेपी पाल अपने सहयोगियों के साथ स्ट्रीमर से नदिया पार के गांव में जीवन रक्षा व भोजन पानी वितरण करने के लिए दिन-रात भ्रमण कर रहे हैं।

शनिवार की सुबह 8 बजे जब अधिकारियों का उक्त बचाव दल नदिया पार के गांव में जल मार्ग से भ्रमण कर रहा था, उसी समय सूचना मिली की ग्राम सिद्धपुरा में एक प्रसव पीड़िता साधना पत्नी मनमोहन सिंह दर्द से छटपटा रही है। सूचना पाकर उक्त अधिकारी 30-35 मिनट में ग्राम सिद्धपुरा पहुंच गए और स्ट्रीमर के द्वारा प्रसव पीड़िता एवं उसके परिजनों तथा आशा बहू के साथ पानी के रास्ते निनावली रामपुरा रोड पर बनी बनी आईटीआई तक लाए, वहां पूर्व से तैयार खड़ी एंबुलेंस से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रामपुरा पहुंचाया गया। जहां आज शाम 7:55 बजे महिला ने सुंदर बेटी को जन्म दिया।

बच्ची के जन्म की सूचना पाकर उप जिलाधिकारी शालिगराम, क्षेत्राधिकारी साजिदा नसरीन, थाना अध्यक्ष जेपी पाल चिकित्सालय पहुंचे और पुत्री जन्म पर हार्दिक शुभकामनाएं एवं नवजात बच्ची को गोद में लेकर दीर्घायु की कामना की जच्चा की सासू मां गुड्डी देवी ने कहा कि वह है मेरी बहू की यह पहली डिलेवरी थी। हम लोग घबरा रहे थे तभी स्ट्रीमर सवार अधिकारी हमारे लिए देवदूत बनकर आए और हमारी मदद की हम बहुत खुश हैं और बहुत अच्छा महसूस कर रही हूं।

  • रिपोर्ट : भूपेंद्र सिंह