चंडीगढ़ : फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर महान धावक मिल्खा सिंह अंतत: जिंदगी की दौड़ हार गये और कोरोना से एक माह की जंग लड़ने के बाद शुक्रवार की देर रात यहां पीजीआई में उनका निधन हो गया। वह 91 वर्ष के थे। उनके परिवार में तीन पुत्रियां डाॅ मोना सिंह , अलीजा ग्रोवर और सोनिया सनवालका तथा पुत्र जीव मिल्खा हैं। उनकी पत्नी निर्मल कौर का पांच दिन पहले ही कोरोना संक्रमण से निधन हो गया था।

मिल्खा सिंह के गत 19 मई को कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि के बाद उन्हें मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। परिवार के आग्रह पर मिल्खा सिंह को 30 मई को अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी और वह अपने घर पर ही थे। तीन जून को अचानक तबीयत बिगड़ने पर उन्हें पीजीआई चंडीगढ़ में भर्ती कराया गया , जहां उनका अब तक उपचार चल रहा था। कोरोना की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें पीजीआई के सामान्य आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया था। आज अचानक उन्हें बुखार आया और उनकी तबीयत बिगड़ गयी तथा ऑक्सीजन का स्तर गिरकर 56 तक पहुंच गया था। पीजीआई में देर रात उन्होंने अंतिम सांसे ली।

वार्ता