कानपुर :: उत्तर प्रदेश के चर्चित बिकरु कांड में जेल में बंद खुशी दुबे की जमानत याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी। आपको बता दें कि खुशी की जमानत की मांग कई सामाजिक संगठन एवं पार्टियां कर रहे हैं। इससे पहले आपको बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने खुशी की जमानत याचिका को खारिज कर दिया था। इसके बाद अब खुशी दुबे ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका खारिज होने के बाद सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। जस्टिस अब्दुल नज़ीर,जस्टिस कृष्णा मुरारी की पीठ में होगी सुनवाई।

आपको बता दें कि दुर्दांत अपराधी विकास दुबे के साथी अमर दुबे को पुलिस और अपराधी के बीच हुए हमीरपुर एनकाउंटर में ढेर कर दिया था। और तो और शादी के महज 9 दिन बाद पुलिस ने अमर दुबे की पत्नी खुशी दुबे को गिरफ्तार कर लिया था। बाद में यह तथ्य निकलकर सामने आया कि खुशी दुबे शादी के वक्त नाबालिक थी।

कौन है खुशी दुबे?

खुशी दुबे बाराबंकी के बाल संरक्षण गृह में बंद है. पुलिस ने अमर दुबे की शादी के ठीक 5वें दिन बिकरू कांड में उसकी पत्नी को आरोपी बना दिया था। अमर दुबे, कुख्यात अपराधी विकास दुबे का दाहिना हाथ था। 29 जून को उसकी शादी खुशी दुबे के साथ हुई थी।

क्या है बिकरू कांड?

कानपुर जिले का बिकरू गांव, उस वक्त चर्चा में आया था जब गैंगस्टर विकास दुबे ने 2 जुलाई 2020 की रात अपने साथियों के साथ मिलकर 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। हत्या के बाद यूपी एसटीएफ ने स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर विकास दुबे और उसके 5 सहयोगियों को अलग-अलग एनकाउंटर में ढेर कर दिया था।