जैसलमेर : राजस्थान के कई जिलों में इस बार मानसून के मौसम में औसत से काफी कम बारिश हुई है। वहीं रेगिस्तानी जिले जैसलमेर में इस बार मानसून इतना मेहरबान हैं कि वहां पर औसत से भी कई ज्यादा बरसात हो चुकी है।
जिले में एक बार फिर मानसूनी वर्षा का दौर शुरू हुवा। बुधवार देर रात करीब डेढ़ बजे जैसलमेर शहर सहित कई ईलाकों में बादल झूम कर बरसे। करीब एक घंटे तक चली बरसात में करीब दो इंच पानी बरस गया। मौसम विभाग ने 46.9 एम.एम. वर्षा रिकॉर्ड की। वर्षा के कारण सड़कों पर दो फिट से भी ज्यादा पानी चल रहा था। कुछ गलियों में स्कूटी व मोटरसाईकिल भी बरसात के पानी में बहने लगी जिन्हें बड़ी मुश्किल से उनके मालिकों ने पकड़ा लेकिन सबसे खुशी की बात ये हैं कि रात की बरसात में विश्वविख्यात गड़ीसर झील लबालब होकर छलग गई।
गडीसर झील के गेट के बाहर उसका पानी और बढ़ गया। अब और यदि बरसात होती हैं तो आसपास की बस्तियों में गड़ीसर का पानी घुसने की संभावना है जिससे काफी नुकसान हो सकता है। वर्ष 2006 की बरसात में गड़ीसर का पानी कई कच्ची बस्तियों व बी.एस.एन.एल ऑफिस में घुस आया था जिससे काफी नुकसान हुवा था। जैसलमेर शहर में इस वर्ष अब तक 244.7 एम.एम. बरसात हो चुकी है। जबकि एक जून से मानसून सीजन में 198.8 एम.एम. बारिश रिकॉर्ड की जा चुकी हैं जबकि जिले का सालाना बारिश का एवरेज 165 एम.एम. का है। इस तरह अब तक 148.30 प्रतिशत वर्षा ज्यादा हो चुकी है।
जिले में कल देर रात्रि एवं आज दोपहर एकाएक आंधी व बिजली कड़कने के साथ शहर में तेज बरसात का क्रम शुरू हुआ। वर्षा का दौर एक घंटे तक चलता रहा। शहर में व अन्य कई ग्रामीण अंचलों में कई स्थान पर बरसाती नदी नाले बह निकले। जैसलमेर में दो इंच बारिश दर्ज की गई। जैसलमेर का प्रसिद्ध गडीसर छलक गया। अब यदि और बारिश हुई तो गड़ीसर का पानी शहर की कुछ कॉलोनियों में कहर बरपा सकता है। एक घंटे में 46.9 एमएम पानी बरसा। कम समय में हुई तेज बारिश से मौसम सुहावना हो गया। वहीं कुछ क्षेत्रों में बरसाती नदी नाले बह निकले। इससे सुबह के समय कुछ मार्गों पर आवागमन भी प्रबावित हुआ। बाड़मेर रोड पर मुख्यालय से 14 कि.मी. दूर डाबला में हुई जोरदार बारिश से पानी सुबह तक सड़कों पर बह रहा था। रात्रि बरसात में एक बार गांव के लिये खतरा उत्पन्न हो गया लेकिन बरसात बंद होने के बाद धीरे धीरे पानी उतरने लगा। लंबे इंतजार के बाद हुई इस बारिश से लोगों को एक बार गर्मी से काफी हद तक निजात मिल गई।
जिले के देवीकोट, फतेहगढ़, रासला, मूलाना के साथ बाड़मेर जिले के शिव उपखण्ड के कई गांवों में अच्छी बरसात होने की जानकारी मिली है। कई नदी, तालाबों में अच्छे पानी का आवक हुई है।

वार्ता