आज हम आपको किचन से जुड़े कुछ वास्तु टिप्स के बारे में बता रहे हैं—– किचन किसी भी घर का अहम हिस्सा होता है। इसलिए बहुत जरूरी है कि किचन का वास्तु सही हो। घर में आपका कौन सा कमरा कहां है और कौन सी वस्तुएं कहां रखी जानी चाहिए, ये कुछ ऐसी बातें हैं जिसका बहुत महत्व माना गया है।

वास्तुशास्त्र के अनुसार इसका असर घर में आने वाली सकारात्मक और नकारात्मक उर्जा पर पड़ता है। अगर आपके घर का वास्तु सही है तो तरक्की तय है। परेशानी दूर रहती है। वहीं, ऐसी मान्यता है कि अगर आप इनका पालन नहीं कर पा रहे हैं तो हमेशा नई-नई चुनौती से सामना करना पड़ सकता है। कई बार कुछ वास्तु नियमों का पालन हम किसी मजबूरी के कारण नहीं कर पाते तो कई बार जानकारी का भी अभाव होता है।

1. किचन में मंदिर रखना शुभ नहीं है। ऐसा इसलिए कि कई घरों में किचन में तरह-तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं। इसमें शाकाहारी और मांसाहारी दोनों ही तरह के व्यंजन शामिल रहते हैं। वहीं, कई बार जूठे बर्तन भी लंबे समय तक किचन में पड़े रहते हैं। वास्तु के लिहाज से ऐसा करना शुभ नहीं होता है।

2. घर का किचन घर के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में हो तो बेहतर है।

3. ऐसे ही किचन अगर इस दिशा में नहीं है तो घर का चूल्हा दक्षिण-पूर्वी कोने में रखा हो तो भी अच्छा रहता है। साथ ही इसे एकदम दीवार में सटा कर नहीं रखना चाहिए। कुछ दूरी बनाए रखें।

4. किचन में बर्तन धोने की जगह यानी सिंक उत्तर-पूर्वी हिस्से में रहना चाहिए। पानी पीने का स्थान या उसके बर्तन जैसे ग्लास भी वहीं आसपास रखे जाने चाहिए।

5. मसाले, अन्न और दूसरी खाने की चीजें जिसे आप अपने घरों में रखते हैं, उसे दक्षिण या पश्चिम दिशा में ही रखें।

6. किचन में दीवार का रंग काला नहीं होना चाहिए। इसका भी ध्यान रखें।

7. इस बात का खास ख्याल रखें कि सोने से पहले किचन में रखें सभी गंदे बर्तन धो लिए जाएं। कभी भी सिंक में ऐसे ही सुबह तक बर्तन को छोड़ने की कोशिश नहीं करें।

कुडली संबंधी किसी भी प्रश्न अथवा वास्तुदोष निवारण के लिए आप व्हाट्सएप पर अपने प्रश्न पूछ सकते है। शुल्क लागू

  • Astro Usha Verma