सनातन संस्कृति का एक प्रमुख पर्व नवरात्रि देवी शक्ति मां दुर्गा की उपासना का उत्सव है | इस वर्ष 17 अक्टूबर शनिवार से शारदीय नवरात्र आरंभ हो रहे हैं | संस्कृत शब्द नवरात्रि का अर्थ होता है नव रातें | नवरात्रि के 9 दिनों में देवी के नौ अलग-अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है।

वैसे तो 1 साल में 4 बार नवरात्रि आती है लेकिन इन सब में से चैत्र और आश्विन यानी शारदीय नवरात्रि को ही मुख्य माना जाता है शारदीय नवरात्रि आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक मनाई जाती है |

नवरात्रि का महत्व

नवरात्रि का पर्व मां दुर्गा के पूजा का सबसे शुभ समय माना जाता है | यह पूजन आज से नहीं बल्कि वैदिक युग के पहले से हो रही है | जिसका जिक्र हमें पुराणों में देखने को मिलता है | नवरात्रि में देवी के शक्तिपीठ और सिद्ध पीठों पर मेले आदि लगते हैं | मां दुर्गा के सभी शक्तिपीठों का अलग अलग महत्व है लेकिन माता का स्वरूप एक ही है कहीं पर लोग माता को वैष्णो देवी के रूप में पूजते हैं तो कहीं पर चामुंडा के रूप में इनकी पूजा की जाती है इसे पूरे भारत के लोग बड़ी धूम-धाम से मनाते हैं | गुजरात में इस त्यौहार को बड़े पैमाने पर मनाया जाता है अब तो नवरात्रि के समय में हर जगह पर डांडिया और गरबा का आयोजन होता है।

पूजा के दौरान करें इन खास नियमों का पालन

  • नवरात्रि में पूरे 9 दिनों तक माता का व्रत रखना चाहिए अगर किसी कारणवश यह संभव न हो तो आठवें दिन व्रत अवश्य रखें
  • 9 दिनों में जातक को मां दुर्गा के नाम से दीपक जलाना चाहिए
  • नवरात्रि के दिनों में पूजा स्थल पर मां दुर्गा मां लक्ष्मी और मां सरस्वती के चित्रों की स्थापना करे फूलों से सजा कर उनकी पूजन करें
  • इन दिनों में दुर्गा सप्तशती का पाठ जरूर करें साथ ही मां के मंत्र ओम एम् ह्रीम् क्लीम् चामुंडायै विच्चे का स्मरण जरूर करे ।
  • पूजा में हमेशा लाल रंग के आसन का उपयोग करें साथ ही पूजा के समय लाल वस्त्र पहने और लाल रंग का तिलक भी लगाएं
  • नवरात्रि के पहले दिन की जाने वाली कलश स्थापना और घट स्थापना शुभ मुहूर्त में करें और कभी भी कलश को खुला न रखें शारदीय नवरात्रि 2020 तिथियां 
  • प्रतिपदा17 अक्टूबर (शनिवार)माँ शैलपुत्री (घट-स्थापना)नवरात्रि दिन 2 – द्वितीय18 अक्टूबर (रविवार)माँ ब्रह्मचारिणी नवरात्रि दिन 3 – तृतीया19 अक्टूबर (सोमवार)माँ चंद्रघंटा नवरात्रि दिन 4 – चतुर्थी20 अक्टूबर (मंगलवार)माँ कुष्मांडा नवरात्रि दिन 5 – पंचमी21 अक्टूबर (बुधवार)माँ स्कंदमाता नवरात्रि दिन 6 – षष्ठी22 अक्टूबर (गुरुवार)माँ कात्यायनी नवरात्रि दिन 7 – सप्तमी23 अक्टूबर (शुक्रवार)माँ कालरात्रि नवरात्रि दिन 8 – अष्टमी24 अक्टूबर (शनिवार)माँ महागौरी 
  • (महा अष्टमी, महा नवमी पूजा)नवरात्रि दिन 9 – नवमी25 अक्टूबर (रविवार)माँ सिद्धिदात्री नवरात्रि दिन 10 – दशमी26 अक्टूबर (सोमवार)दुर्गा विसर्जन (दशहरा)। पूजा का शुभ मुहूर्त। 7:15 से 9 तक 11:49 से 4:32 तक 5:58 से 7 : 30 तक रहेगा

पंडित आचार्य जैमिनी

रिपोर्ट: सलीम हुसैन