श्रावण मास का प्रारंभ 25जुलाई 2021 को हो रहा है। और श्रावण मास 22 अगस्त तक रहेगा।

  • प्रथम श्रावण सोमवर  26 जुलाई 2021
  • द्वितीय श्रावण सोमवार 2अगस्त 2021
  • तृतीय श्रावण सोमवार 9अगस्त 2021
  • चतुर्थ श्रावण सोमवार 16 अगस्त 2021

आज से बहुत ही पुनीत माह शुरू हो रहा है। इस माह में किस राशि वाले को किस प्रकार से पूजा-अर्चना करनी चाहिए। इसके बारे में न्यूज़ क्रांति से वार्ता के दौरान ज्योतिषाचार्य अंशु दीदी ने बताया कि श्रावण मास में शिवजी को प्रसन्न कर अपनी मनोकामना पूर्ण करने के लिए। अभिषेक का अत्यंत महत्व है । कई प्रकार के अभिषेक अलग-अलग पदार्थ से किए जाते हैं। किन्तु यदि इन शिव अभिषेक को राशि के अनुसार किया जाए , तो इससे मनचाहा फल प्राप्त होकर ग्रह आदि भी अनुकूल होंगे।


मेष राशि : राशि  स्वामी बने मंगल देव ,अतः गन्ने के रस व गुलाब के पुष्प से अभिषेक करे।

वृषभ राशि : स्वामी बने शुक्र देव अतः दूध दही व सफेद पुष्प से अभिषेक करें।

मिथुन राशि : स्वामी बने बुध देव , दूर्वा व बेल पत्र से अभिषेक करें

कर्क राशि : स्वामी बने चंद्र देव गंगा जल ,कच्चे दूध से अभिषेक करें

सिंह राशि : स्वामी बने सूर्य देव ,लाल चंदन व लाल पुष्प से अभिषेक करें

कन्या राशि : स्वामी बने बुध देव ,भांग व बेल पत्र से अभिषेक करें

तुला राशि : स्वामी बने शुक्र  देव ,इत्र व सफेद पुष्प सेअभिषेक करें

वृश्चिक राशि : स्वामी बने मंगल देव गुलाल से व आक के पुष्प से अभिषेक करें

धनु राशि : स्वामी बने गुरु देव शहद व पिले पुष्प से अभिषेक करें

मकर राशि : स्वामी बने शनि देव काले तिल जमुनी रंग या नीले के पुष्प से अभिषेक करें

कुम्भ राशि : स्वामी बने शनि देव सरसो का तेल व नीले रंग के पुष्प से अभिषेक करें

मीन राशि : स्वामी बने गुरु देव  केसर के दूध से व केशरिया पुष्प से अभिषेक करे।

श्रावण मास में पूजा करने के दौरान एक बात का विशेष ध्यान रखें कि शिवलिंग पर हल्दी व तुलसी चढ़ाना वर्जीत है।

ज्योतिषाचार्य अंशु दीदी (उज्जैन)