प्रेमी जोड़े की अंतिम मुलाकात ने सबको रुला दिया

by saurabh

कानपुर। पहले मुलाकात हुई, फिर बात हुई और बातों ही बातों में मोहब्बत हो गयी। लेकिन घर वाले दोनो की बेपनाह मोहब्बत के दुश्मन बन बैठे। पर दोनो ने अलग होने की जगह साथ जीने मरने की कसमें खा ली और अंत भी वही हुआ। जिसमें उन दोनों ने बरगद के पेड़ पर फांसी से झूलकर हमेशा के लिए अपनी साँसों को थाम दिया।

जी हां यह वाक्या है कानपुर का,जहां डीएम कंपाउंड के सर्वेंट क्वार्टर में रहने वाले रवि और शिखा आपस मे बेपनाह मोहब्बत करते थे। समय चलता गया दोनो का प्यार भी बढ़ता गया। दोनो शादी करना चाहते थे लेकिन रवि के परिजन इस बात से खफा हो गए और दोनो को जुदा करते हुए रवि की शादी तय कर दी। जिसकी खबर मिलते ही शिखा जीते जी मर मर के घुटने लगी। बस इंतजार था एक मुलाकात का जो शुक्रवार की रात पूरी हो गई। लेकिन किसी को नही मालूम था कि यह मुलाकात सबके मुहँ बन्द कर देगी। क्योंकि रवि और शिखा ने कंपाउंड में लगे बरगद के पेड़ से झूलते हुए आत्महत्या कर ली। जिसका नजारा सुबह होते ही आग की तरह फैल गया। वहीं सूचना मिलते ही मौकें पर पहुंची कोतवाली थाने की पुलिस ने दोनों शवों को उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

हालांकि दोनों ने जो किया वह कायरता से बढ़कर न था। अगर जिंदा रहते तो हो सकता था दोनो की मोहब्बत के आगे परिवार वाले झुक जाते। पर अब कुछ नही हो सकता है। बस इतना हो गया कि मोहब्बत की किताब में रवि और शिखा का नाम भी दर्ज हो चुका है।

  • कौस्तुभ शंकर मिश्रा

Related Posts