अलवर(राजस्थान):- दरअसल नासिक निवासी अमित कपूर अपनी बुआ की लड़की से मिलने अलवर आता रहता था।बुआ की लड़की के ही घर एक परिवार भी आता था।अमित कुमार के रहन- सहन और प्रभावित करने वाली बोलचाल से प्रभावित होकर उस परिवार ने अपनी बेटी की अमित से सगाई कर दी।अमित ने अपने आप को एनटीपीसी में इंजीनियर बता कर परिवार सदस्यों को पीएम के साइन वाला एक कागज दिखाया और कहा,कि जब उसे पैसे मिल जाएंगे तो वह रकम वापस लौटा देगा।उसे अभी रुपयों की सख्त जरूरत है।

परिवार के लोगों ने दमाद समझ कर अमित को मोटी रकम दे दी।कुछ दिन बाद बेटी की शादी भी हो गई।लेकिन बेटी को जल्द ही अमित की असलियत मालूम लग गई और वह सीने में दर्द लिए पीहर अलवर आ गई।ठगी का शिकार हुई बेटी ने महिला थाने में दहेज का मुकदमा दर्ज कराया जिसमें अमित को गिरफ्तार किया गया।साथ ही उस कागज की असिलियत जानने के लिए पीएम कार्यालय को पत्र लिखा,जहाँ पर कागज में पीएम के हस्ताक्षर फर्जी पाए गए।पीके इसर सहायक निदेशक पीएम कार्यालय के पत्र पर अमित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया। इधर,शहर कोतवाल राजेश शर्मा के अनुसार पीएम के फर्जी साइन करने वाले आरोपी अमित कुमार को नासिक से गिरफ्तार कर अलवर लाया गया है।

रिपोर्ट : राजीव श्रीवास्तव