नयी दिल्ली : कांग्रेस ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उच्चतम न्यायालय के कड़े रुख तथा कांग्रेस नेतृत्व के दबाव में छह माह के भीतर टीकाकरण पर तीसरी बार नीति बनाकर 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को मुफ्त टीका लगाने की घोषणा तो कर दी लेकिन उनका यह एलान अब भी दोषपूर्ण और आधा अधूरा ही है।

श्री सुरजेवाला ने सोमवार को श्री मोदी के देश को संबोधित करने के बाद सभी वयस्क नागरिकों का निशुल्क टीकाकरण करने की उनकी घोषणा पर कहा देर से ही सही लेकिन कांग्रेस के सुझाव को मान लिया गया है। उनका कहना था कि इस नीति में भले ही बहुत खामियां हैं लेकिन बार-बार कांग्रेस नेतृत्व के सुझाव को ठुकराने के बाद अंत में न्यायालय के दबाव में अधूरा ही सही लेकिन नागरिक हित की इस मांग स्वीकार कर लिया है।

प्रवक्ता ने कहा कि सरकार तीसरी बार कोरोना टीकाकरण की नीति लेकर आई है। पहले 16 जनवरी को 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को निशुल्क टीका लगाने का फैसला किया। विपक्ष ने सभी नागरिकों के टीकाकरण की मांग की तो दबाव में एक मई से 18 से 45 साल के लोगों के टीकाकरण का फैसला लिया लेकिन इसका जिम्मा राज्यों को सौंप दिया गया।



जारी वार्ता