म्यांमार: प्रदर्शन के खिलाफ बल प्रयोग के लिए सेना को ठहराया जाएगा जवाबदेह

नाएपीएडॉ। म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग के विशेष प्रतिनिधि टॉम एंड्रयूज ने सेना को चेतावनी दै है कि उसे उसके अपराधों के लिए जवाबदेह ठहराया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि एक फरवरी हुई तख्तापटल की घटना के बाद हजारों को सड़कों पर उतर आए हैं तथा देशभर में लोकतंत्र की बहाली की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके जवाब में सेना ने इंटरनेट को बंद कर दिए हैं तथा देश के ज्यादातर शहरों में सैनिकों को तैयात कर दिया है।

टॉम एंड्रयूज ने कहा, “ऐसा लगता है जैसे जनरलों ने म्यांमार की जनता के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया है। देर रात को छापा मारना, काफी संख्या में लोगों की गिरफ्तारियां, इंटरनेट को बंद करना, समुदायों के बीच सेना के काफिले का प्रवेश करना, ये सारे कदम जनता के खिलाफ युद्ध जैसे हैं। ये हताशा के प्रतीक हैं। सावधान जनरलों, आपको इसके लिए जवाबदेह ठहराया जाएगा। “

ये भी पढ़ें- म्यांमार में प्रतिबंध के बावजूद बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारी, पुलिस के साथ टकराव

नेटब्लॉक की रिपोर्ट के अनुसार आज तड़के से पूरे म्यांमार में लगभग पूरी तरह से इंटरनेट सेवा बंद हो जाएगी।

इन्पुट- यूनीवार्ता