logo
लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेसवे निर्माण गति को दोगुना करने के लिए 3डी एएमजी तकनीक का पहली बार होगा उपयोग
 

उत्तर प्रदेश।  भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) द्वारा लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेसवे के निर्माण के लिए 3D ऑटोमेटेड मशीन गाइडेंस (AMG) तकनीक का पहली बार उपयोग किया जाएगा।

इस तकनीक के इस्तेमाल से राजमार्ग के निर्माण की गति दोगुनी हो जाएगी, साथ ही इस तकनीक के जरिए एनएचएआई के अधिकारी और ठेकेदार अपने फोन और कंप्यूटर पर काम की गति का सीधा अपडेट प्राप्त कर सकेंगे। अहम बात यह है कि 63 किलोमीटर लंबा लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेसवे ऐसा पहला प्रोजेक्ट है जिसमें इस तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा।

रक्षा मंत्री और लखनऊ से सांसद राजनाथ सिंह और केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी बुधवार को 4,200 करोड़ रुपये की इस परियोजना की आधारशिला रखेंगे, जिससे दिसंबर 2023 तक दोनों शहरों के बीच यात्रा का समय मुश्किल से 40 मिनट तक कम हो जाएगा।

यह परियोजना अमौसी हवाई अड्डे से शुरू होगी और उन्नाव के रास्ते कानपुर के प्रस्तावित रिंग रोड से जुड़ेगी।

यात्रा के दौरान सिंह सीधे अमौसी मेट्रो स्टेशन के पास कार्यक्रम स्थल पर पहुंचकर 7,506 करोड़ रुपये की विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे।

मुख्य परियोजनाओं की बात करें तो मुंशीपुलिया चौराहे से पॉलिटेक्निक तक फ्लाईओवर के निर्माण, खुर्रमनगर फ्लाईओवर के निर्माण और मड़ियांव से आईआईएम क्रॉसिंग तक फ्लाईओवर के निर्माण का शिलान्यास किया जाएगा. इसके अलावा लखनऊ-हरदोई सड़क के चार लेन चौड़ीकरण का शिलान्यास किया जाएगा और सर्वोदयनगर और बिरहीमपुर पुल का उद्घाटन किया जाएगा.

Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें व टेलीग्राम ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें।