logo
PM Modi Security Lapse: स्मृति ईरानी ने पंजाब कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा पीएम से नफरत को देश नहीं करेगा बर्दाश्त
केंद्रीय मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "भारत के इतिहास में आज कांग्रेस के इरादे नाकाम रहे। जो लोग कांग्रेस में मोदी से नफरत करते हैं, वो आज देश के पीएम, उनकी सुरक्षा किस तरह से भंग किया जाए, उसके लिए प्रयास करते हैं।"
 

पंजाब। पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक से भाजपा कांग्रेस पार्टी के ऊपर जम के निशाना साध रही है। भाजपा की तरफ से बुधवार शाम केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और सुधांशु चतुर्वेदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पंजाब की कांग्रेस सरकार पर जमकर निशाना साधा। स्मृति ईरानी ने पीएम की सुरक्षा की चूक को लेकर कांग्रेस से तीन बड़े सवाल पूछे। उन्होंने कहा, सभी को पता है कि कांग्रेस मोदी से नफरत करती है, उन्हें ध्वस्त करना है तो चुनाव में करिए। लेकिन अगर देश के पीएम से आप नफरत करते हैं और उनके खिलाफ इस तरह की साजिश रचते हैं, तो इसे देश बर्दाश्त नहीं करेगा। 

केंद्रीय मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "भारत के इतिहास में आज कांग्रेस के इरादे नाकाम रहे। जो लोग कांग्रेस में मोदी से नफरत करते हैं, वो आज देश के पीएम, उनकी सुरक्षा किस तरह से भंग किया जाए, उसके लिए प्रयास करते हैं। जो आक्रोश आप हममें और सुधांशु जी में देख रहे हैं, वो सिर्फ हमारे राजनीतिक संगठन तक सीमित नहीं है। हमने बार-बार कहा है कि नफरत कांग्रेस को मोदी से है, देश के पीएम से नफरत न करें।"

ईरानी ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए अपने प्रश्न को पूछा। उन्होंने कहा, "कांग्रेस को आज जवाब देना होगा। पीएम किस रूप से एक स्थल पर पहुंचते हैं। उस पूरे रूट की सुरक्षा का प्रबंध और कोई भी गतिरोध नहीं है ऐसा आश्वासन पंजाब पुलिस से पीएम के सुरक्षा दस्ते को मिला। क्या जानबूझकर पीएम के सुरक्षा दस्ते को झूठ बोला गया? 

आगे कांग्रेस से उन्होंने सवाल किया कि जब पीएम के पूरे काफिले को जब रोकने का प्रयास किया गया, 20 मिनट तक जब उनकी सुरक्षा भंग हुई, सुरक्षा भंग करने वाले आखिर पीएम की गाड़ियों के पास कैसे पहुंचे? 

स्मृति ईरानी ने कहा कि पूरा भारत जानता है कि पीएम की मूवमेंट कहां हो रही है, ये ज्यादातर जानकारी उपलब्ध नहीं होती। उस दौरान किसने प्रदर्शनकारियों को वहां भेजा, इसका जवाब कांग्रेस को देना होगा?

उन्होंने कहा, "मैं आज कांग्रेस से पूछती हूं कि पीएम मोदी प्रधानमंत्री बने लोगों के आशीर्वाद से। उन्हें ध्वस्त करना है तो इलेक्शन में करिए। ऐसे साजिश रचने की क्या आवश्यकता है। वे लोग जो षड़यंत्र का हिस्सा हैं, उनसे मेरा सवाल- न्याय तो होगा, बैर मोदी से है लेकिन देश के प्रधानमंत्री का बाल बांका करने की कोशिश, इस कोशिश को देश समर्थन नहीं देगा।" 

Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें व टेलीग्राम ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें।