नेपाल : सोमवार को नेपाल के विभिन्न 77 ज़िलों में नेपाली कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शन किया।बहराइच से सटे पड़ोसी ज़िला बांके के नेपालगंज शहर में नेपाली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व नेपाल के पूर्व मंत्री गगन थापा ने सोमवार की शाम 04 बजे त्रिभुवन चौक पर नेपाल के प्रधानमंत्री के पी ओली व राष्ट्रपति विद्यदेवी भंडारी को आड़े हाथों लिया।उन्होंने कहा कि हड़बड़ी में सनक के वशीभूत होकर प्रधानमंत्री ने संसद भंग कर जनमत व संविधान के साथ घोर धोखा किया है।थापा ने आगे कहा कि कम्युनिस्ट पार्टी की आपसी लड़ाई के कारण व प्रधानमंत्री पद की लोलुपता के कारण ओली ने यह जनविरोधी कदम उठाया।वृहत विरोध सभा को सम्बोधित करते हुए गगन थापा ने कहा कि सत्तारूढ़ नेपाल की दो कम्युनिस्ट पार्टीयों के मध्य सत्ता सुख की लड़ाई थी।इसी वजह से ओली ने जनमत का अपमान किया।थापा ने यह भी कहा कि राष्ट्रपति विद्यदेवी भंडारी अब हमारी आपकी राष्ट्रपति नहीं है।बल्कि ओली गैंग की एक सदस्य मात्र हैं।थापा ने आरोप लगाया कि कोरोना महामारी के कारण तहस नहस हो चुके अर्थतंत्र को सुधारने के अवसर पर ओली ने दिमागी दिवालिया पन दिखा दिया।सभा बांके बर्दिया व दांग ज़िलों से लोग थापा को सुनने आये थे।लोगो ने थापा के चुटीले व्यंगों पर लोगो को तालियां बजाते देखा गया l

रिपोर्ट -रईस