उत्तर प्रदेश : लाख कोशिश की जाए लेकिन देश दुनिया का कोई कोना सेक्स के काले कारोबार से अछूता नहीं है। ताजा मामला देश की राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के प्रख्यात जनपद गाजियाबाद का है। यहां एक ऐसे मामले का खुलासा हुआ है जिसे जिसने भी सुना वह हैरान रह गया। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जनपद में एक करोड़पति मियां बीवी की काली कमाई से जब पर्दा उठा तो सभी के पैरों तले जमीन खिसक गई। यह कपल तो सेक्स और ब्लैकमेलिंग के कारोबार के बलबूते ही करोड़पति बन गया। प्रकरण सामने आने के बाद पुलिस ने दंपत्ति के बैंक खातों को सीज कर दिया है वही मियां बीवी को कॉल गर्ल्स के साथ गिरफ्तार कर उनसे कड़ाई से पूछताछ भी की जा रही है। जब पुलिस ने करोड़पति मियां बीवी को गिरफ्तार किया और उनके काली कमाई के बारे में जानकारी ली तो उनके ब्लैक मेलिंग की कहानी का पर्दाफाश हुआ।

गुजरात के व्यापारी का जीना हुआ हराम तो उसने पुलिस से की शिकायत

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि गुजरात के मूल निवासी एक व्यापारी को जब इस करोड़पति मियां बीवी गैंग द्वारा ब्लैकमेल किया गया। तो व्यापारी परेशान हो गया। जब व्यापारी को लगा कि बिना 80 लाख वसूले अब उसे चैन से नहीं जीने दिया जाएगा। तब मरता क्या न करता वाली कहावत पर अमल करते हुए पुलिस की मदद लेने में ही उसने खैर समझी।

बकायदा मासिक वेतन पर कॉलगर्ल्स को दी गई थी नौकरी

जब मामला संज्ञान में आया तो पुलिस द्वारा पर कार्रवाई करते हुए टीमों का गठन कर दिया गया और मामले की जनता से तहकीकात शुरू की गई। पुलिस द्वारा टीमें बनाकर सेक्स कारोबार और ब्लैकमेलिंग में जुटे करोड़पति मियां-बीवी की जोड़ी को तीन कॉलगर्ल्स के गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार मियां-बीवी ने गैंग में शामिल कॉलगर्ल्स को बाकायदा मासिक वेतन पर रखा था। ताकि काली कमाई के इस घिनौने कारोबार में इन सेक्स ठेकेदार मियां-बीवी और कॉलगर्ल्स के बीच रोज-रोज किसी तरह के मनमुटाव या चिकचिक की गुंजाईश ही बाकी न बचे।

जिसने भी मामला सुना दांतों तले दबा ली उंगली

दंपत्ति के सेक्स के काले कारोबार का जब पर्दाफाश हुआ तो मामला जिसने भी सुना भाई हैरत में आ गया। यही नहीं मियां बीवी को देख पुलिस भी हैरत में है। तमाम तथ्यों की पुष्टि खुद गाजियाबाद जिले के पुलिस अधीक्षक (नगर) निपुण अग्रवाल भी करते हैं। पुलिस ने जब इस रैकेट का भांडाफोड़ करके मियां-बीवी को गिरफ्तार किया, तो इस अजब जोड़ी की गजब कहानियां सामने निकल कर आईं। गिरफ्तार दंपती यह अड्डा राजनगर एक्सटेंशन इलाके से चला रहा था‌। इनके निशाने पर मूल रूप से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र से बाहर के शिकार ही रहते थे। ताकि इन मास्टरमाइंड मियां बीवी द्वारा ग्राहकों के सामने पेश लड़कियों के साथ वीडियो बन जाने पर उन्हें आसानी से हलाल किया जा सके। शिकार राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र से बाहर का होने के चलते इस गैंग के जाल में फंसने पर खुद को असहाय भी महसूस करता था।

आखिर व्यक्ति कैसे होता था शिकार

आपको बता दें कि इस रैकेट में आकर युवक कैसे फस जाता था। इस रैकेट के काले कारोबार के जाल में फंसा व्यक्ति सोचता था कि अगर वह इस परदेसी इलाके में स्थानीय पुलिस से शिकायत करने जाएगा तो पुलिस शायद उसकी नहीं सुनेगी। अगर पुलिस ने सुन भी ली तो भी शायद वो फेवर इन सेक्स दलालों का ही करेगी। जाल में फंसे शिकार की इन्हीं तमाम कमजोरियों का फायदा यह शातिर-दिमाग मास्टरमाइंड मियां-बीवी की जोड़ी उठाती थी।

एसपी सिटी गाजियाबाद के मुताबिक, जाल में शिकार को फांसने के लिए मियां-बीवी लड़कियों को सामने कर देते थे। लड़कियों का काम था शिकार से वीडियो और ऑडियो कॉल करना। इन कॉल्स में लड़कियां सीधे-सीधे सेक्स की बात करती थीं। वीडियो कॉल के चक्कर में फंसे शिकार से मोटी रकम मिलती थी।

जितने उतरेंगे मर्दों कपड़े उतनी ही मिलेगी सैलरी

लिहाजा मियां-बीवी की इस खतरनाक जोड़ी ने वीडियो सेक्स कॉल के जरिए शिकार को घेरने वाली लड़कियों की तनख्वाह भी ज्यादा कर रखी थी. मतलब जो लड़की जाल में फंसे शिकार यानी मर्द के जितने ज्यादा कपड़े वीडियो कॉल में उतरवा कर उसका अश्लील वीडियो शूट करवा लेती. उसकी महीने की सैलरी भी उसी अनुपात में ऑडियो कॉल करके ग्राहक फांसने वाली कॉलगर्ल्स के तुलना में कहीं ज्यादा थी. पुलिस का तो यह कहना है कि वीडियो कॉल वाली एक कॉलगर्ल (सेक्स वर्कर लड़की) को यह ठेकेदार 20 से 30 हजार रुपए महीना तक की सैलरी देते थे। जबकि ऑडियो कॉल पर मर्द को अश्लील बातचीत के जाल में घेरकर लाने वाली लड़की की महीने की तनख्वाह 10 से 15 हजार रुपए होती थी।

ऐसे फूटा मियां-बीवी के पाप का घड़ा
गुजरात के राजकोट के रहने वाले अगर मोटी आसामी के जाल में फंसने पर उससे 80 लाख रुपए की जिद पर यह मियां-बीवी नहीं अड़े होते तो शायद उनका यह घिनौना कारोबार आगे भी बदस्तूर जारी रहता. पता चला है कि मियां-बीवी को इस तरह सेक्स कारोबार की आड़ में लोगों को हलाल करने का आइडिया दरअसल विदेश में रहने वाले अपने एक परिचित से मिला था. मियां-बीवी की जोड़ी बीते 2 साल से इस धंधे में उतरे हुए थे. वीडियो चैट के लिए यह सेक्स कारोबारी जोड़ी कुछ पोर्न वेबसाइट्स का भी इस्तेमाल करती थीं. साथ ही व्हाट्सएप कॉलिंग के जरिए भी यह सब धंधा होता था. बस एक बार किसी तरह से शिकार मियां-बीवी की इस जोड़ी की मीठी बातों में किसी तरह से फंस पाता.

गाजियाबाद एसपी सिटी के मुताबिक, फिलहाल जिन पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनमें, तीन कॉलगर्ल्स और मियां-बीवी शामिल हैं. इनके 8 बैंक अकाउंट मिले हैं. इन 8 में से चार बैंक अकाउंट्स में करीब 4 करोड़ रुपए के लेनदेन की बात भी पुलिस को पता चली है. सेक्स और ब्लैकमेलिंग के इस अड्डे से पुलिस को तमाम आपत्तिजनक चीजें भी मिली हैं. कई अश्लील वीडियो, लैपटॉप, मोबाइल फोन सेट, अश्लील सीडी, मेमोरी कार्ड, पेन ड्राइव इत्यादि भी मियां-बीबी ने बरामद कराए हैं।