निजीकरण के विरोध में बिजली कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार

by saurabh

कानपुर। निजीकरण के विरोध में बिजली कर्मचारियों ने सोमवार से पूर्ण कार्य का बहिस्कार कर दिया है। केस्को मुख्यालय में भारी सैकड़ो की संख्या में जमा हुए कर्मचारियों ने सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए निजीकरण का विरोध किया। हालाँकि कार्य बहिस्कार के दौरान अगर किसी एमरजेंसी सेवा की बिजली बाधित होती है तो बिजली कर्मचारी उसको सही करेंगे।

विधुत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति पूर्वांचल विधुत वितरण निगम के निजीकरण का विरोध कर रही है। 29 सितम्बर से लगातार तीन घंटे का कार्य बहिस्कार करने के बाद जब इनकी मांगे नहीं मानी गई तब सोमवार से पूर्ण कार्य बहिस्कार का किया गया।

इसमें बिजली विभाग के अभियंता अवर अभियंता व बिजली कर्मचारी पूर्ण कार्य बहिस्कार में शामिल रहे। पहले यह बताया गया था कि इसमें सविंदा कर्मचारी शामिल नहीं होंगे, लेकिन अब निजीकरण के विरोध में सविंदा कर्मचारी भी शामिल हो गए है।

हालाँकि प्रदर्शन कर रहे लोगो का कहना है कि अगर एमरजेंसी सेवाओं को देने वाले संस्थानों में किसी कारणवश बिजली का फाल्ट होता है तो उसको ठीक किया जाएगा। विधुत कर्मचारी संघ के प्रवक्ता विजय त्रिपाठी का कहना है कि सरकार पूर्वांचल विधुत वितरण निगम का निजीकरण करने जा रही है जिसका विरोध किया जा रहा है। उनका कहना है हम अपनी जान पर खेलकर काम करते है लेकिन कोई प्राइवेट कंपनी आकर मलाई खाये यह बर्दास्त नहीं किया जाएगा।

  • कौस्तुभ शंकर मिश्रा

Related Posts