नयी दिल्ली: एलोपैथी को लेकर की गयी अपनी हालिया विवादित टिप्पणी के कारण देश के विभिन्न राज्यों में दर्ज FIR को दिल्ली स्थानांतरित किये जाने को लेकर स्वामी रामदेव ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

योग गुरू स्वामी रामदेव ने शीर्ष अदालत में याचिका दायर करके अलग-अलग राज्यों में दर्ज हुई FIR के मद्देनजर किसी भी प्रकार की दंडात्मक कार्रवाई पर रोक लगाने की मांग की है।

रामदेव द्वारा बनाई गयी कोरोनिल नहीं है कोरोना की दवा: आईएमए

बाबा रामदेव ने देश के अलग-अलग हिस्सों में दर्ज प्राथमिकी को एक साथ करने की मांग की है।

इतना ही नहीं, उन्होंने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) की पटना और रायपुर इकाई द्वारा दर्ज मुकदमों में कोई भी दंडात्मक कार्रवाई न करने की मांग की है।