जालौन : उत्तर प्रदेश के जनपद जालौन के माधौगढ़ तहसील के अंतर्गत रामपुरा ब्लॉक में चंदावली-बिलुहा के मार्ग पर 2 गांवों को जोड़ने के लिए सड़क निर्माण कार्य किया गया था। लेकिन यह सड़क निर्माण कार्य भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। सड़क इतनी अच्छी बनी कि कुछ ही दिनों में सड़क की गुणवत्ता बहार आने लगी। सड़क की गुणवत्ता का वीडियो इन दिनों इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में आरोप लगाया जा रहा है कि विधायक मूलचंद्र निरंजन सड़क निर्माण कार्य देखने आए तो लेकिन उन्होंने कोई कार्य नहीं किया। वही लोगों ने विधायक पर यह भी आरोप लगाया कि विधायक केला और मिठाई के स्वाद में मानक विहीन सड़क को भी हरी झंडी दिखा गए।

वही आपको बता दें कि यह सड़क निर्माण कार्य की लागत 71. 23 लाख बताया गया है और सड़क की लंबाई मात्र 1.100 किलोमीटर है। सड़क निर्माण कार्य में सरकारी पैसे को लगता है पानी की तरह बहा दिया गया। और जिम्मेदार मौन रहे।

वायरल वीडियो में लगे विधायक पर आरोप

गांव वालों की समस्या के लिए जनप्रतिनिधि होता है। और गांव वाले अपना बहुमूल्य मत देकर जनप्रतिनिधि को सत्ता में लाते हैं कि वह उनकी आवाज को उठा सके और हर विकास कार्यो की देखरेख सही ढंग से करें। लेकिन सड़क निर्माण कार्य में हुई धांधली उसका वायरल वीडियो देखने से यह नहीं लगता कि किसी भी जिम्मेदार ने गुणवत्ता को परखा है। और तो और सड़क निर्माण कार्य कर सरकारी पैसे को मिट्टी की तरह बहा दिया गया और सड़क मात्र कुछ ही दिनों में उखड़ने लगी। लेकिन जब सड़क निर्माण कार्य की गुणवत्ता देखने क्षेत्रीय विधायक मूलचंद्र निरंजन वहां पहुंचे, वही वायरल वीडियो में सुनाई दे रहा है कि लोगों का आरोप है कि विधायक बर्फी और केले के चक्कर में सड़क की गुणवत्ता को बिना परखे ही हरी झंडी दे गए।

आपको बता दें कि इन दिनों एक वीडियो इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें कुछ लोग एक सड़क की गुणवत्ता को दिखा रहे हैं। साथी यह भी बता रहे हैं कि इस सड़क को विधायक जी अभी पास करके गए हैं। वीडियो जालौन जनपद के माधौगढ़ तहसील के अंतर्गत रामपुरा ब्लॉक में आने वाले गांव चंदावली-बिलुहा के बीच बनने वाली नयी सड़क की गुणवत्ता को दिखा रहे है। अब ग्रामीणों का आरोप सड़क की गुणवत्ता वीडियो में साफ नजर आ रही है।

सड़क गुणवत्ता को लेकर क्या कहा विधायक ने

वायरल वीडियो की पुष्टि एवं सड़क की गुणवत्ता को लेकर जब न्यूज़ क्रांति की टीम ने क्षेत्रीय विधायक मूलचंद्र निरंजन से बात की तो उन्होंने कहा कि उन्होंने सड़क का निरीक्षण किया तो उनको लगा कि सड़क मानक विहीन है जिस पर उन्होंने तुरंत संबंधित अधिकारियों को जांच के आदेश दे दिए हैं एवं ठेकेदार का भुगतान पर भी रोक लगवा दी है।

अब देखना यह होगा कि भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ चुकी सड़क पर आखिर क्या कार्रवाई होती है। या फिर यह भी दिखावटी कार्रवाई कि कह कर मामले को शांत कर दिया जाएगा।