विंड्स हैकिंग के पीछे रूस की खुफिया एजेंसी – ब्रैड स्मिथ

वॉशिंगटन– माइक्रोसॉफ्ट के अध्यक्ष ब्रैड स्मिथ ने कहा कि इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि रूस की खुफिया एजेंसी ने सोलर विंड्स हैकिंग की।

ब्रैड स्मिथ ने अमेरिकी सीनेट पैनल के समक्ष कहा, “मुझे लगता है कि हम यह कह सकते हैं। इस स्तर पर हमने रूसी विदेशी खुफिया एजेंसी की ओर इशारा करने वाले पर्याप्त सबूत देखे हैं। और हमें ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जो कि अन्य की ओर इशारा करता हो।”

उन्हाेंने कहा,“हम सरकार और अन्य द्वारा उठाए जाने वाले औपचारिक कदमों की प्रतीक्षा करेंगे। लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं है।”

ये भी पढ़ें- ट्रम्प की खुफिया ब्रीफिंग तक पहुंच नहीं होनी चाहिए: बिडेन

क्राउडस्ट्राइक साइबरसुरक्षा कंपनी के अध्यक्ष और सीईओ जॉर्ज कुर्त्ज ने इस बात पर सहमति व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि उनके पास ऐसी कोई जानकारी नहीं है जिससे पता चलता हो कि रूस के खिलाफ संदेह गलत है।

सीनेट की सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा, “हम जानते हैं कि अमेरिकी सरकार ने कहा है कि यह धमकी देने वाला रूसी मूल का है। जबकि हम वर्तमान में उसे खोजने में असमर्थ हैं, लेकिन हमारे पास इसे गलत ठहराने की कोई जानकारी नहीं है।”

स्मिथ की कंपनी ने व्यापक स्तर पर हमले का विश्लेषण किया। कंपनी का अनुमान है कि कम से कम एक हजार दक्ष, सक्षम इंजीनियरों ने इसमें भाग लिया।

ये भी पढ़ें- सोमालिया में विस्फोट, खुफिया एजेंसी प्रमुख सहित 12 सैनिकों की मौत

अमेरिकी अधिकारियों ने कहा है कि वे इस बात से सहमत हैं कि व्यापक स्तर पर हुई इस साइबर हमले के पीछे रूसी हैकर्स है उन्होेंने कम से कम नौ संघीय एजेंसियों तथा 17,000 निजी कंपनियों को निशाना बनाया हैं। रूस ने इन आरोपों से इनकार किया है।

इन्पुट- यूनीवार्ता