बीहड़ में खुला सैनेटरी नैपकीन केंद्र , मिलेंगे नि:शुल्क

by shubham

हमीरपुर: समर्थ फाउंडेशन व सहयोग संस्था ने संयुक्त रूप से कुरारा ब्लाक के बरुआ गांव में सैनेटरी नैपकीन इकाई केंद्र शुरू किया है। इस केंद्र से आसपास के बीहड़ के गांवों की किशोरियों व महिलाओं को नि:शुल्क सैनेटरी नैपकीन मुहैया कराए जाएंगे। इसका उद्घाटन बिलौटा के राजकीय हाई स्कूल से किया गया । महिलाओं और किशोरियों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के साथ ही अपने गांव की आशा बहू व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के संपर्क में रहने की अपील की गई।
केंद्र का उद्घाटन खंड विकास अधिकारी राम सिंह अहिरवार, उप निदेशक कृषि जितेंद्र मोहन श्रीवास्तव, सहायक खंड विकास अधिकारी शिवनरेश गुरुदेव व राजकीय हाईस्कूल बिलौटा की प्रधानाचार्या कंचन सचान ने संयुक्त रूप से किया।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की जिला सामुदायिक प्रक्रिया प्रबंधक (डीसीपीएम) मंजरी गुप्ता ने किशोरियों व महिलाओं को स्वास्थ्य के प्रति सचेत किया। उन्होंने कहा कि माहवारी को लेकर आज भी समाज में तमाम कुरीतियां और भ्रांतियां हैं। इसे दूर करने की आवश्यकता है। आज किशोरियों व महिलाओं में कुपोषण की समस्या बढ़ी है। ऐसे में उन्हें अपने क्षेत्र की आशा बहू व आंगनबाड़ी के संपर्क में रहना जरूरी है ताकि समय-समय पर उन्हें आयरन की गोलियां, पोषाहार व अन्य सुविधाएं मिलती रहें। सप्ताह में एक बार आयरन की गोली खाने पर जोर दिया ताकि एनीमिया से बचा जा सके।

द गौर्स फाउंडेशन का करो योग- रहो निरोग कार्यक्रम


मातृत्व स्वास्थ्य परामर्शदाता दीपक यादव ने गीत के माध्यम से  किशोरियों व महिलाओं को स्वास्थ्य के मुद्दे पर जागरूक किया। उन्होंने प्रतिमाह की नौ तारीख को होने वाले प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में गर्भवती से अपने निकटवर्ती प्रसव इकाई में प्रसव पूर्व होने वाली जांचें कराने का आह्वान किया। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के डीईआईसी मैनेजर गौरीश राजपाल ने बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी।

अन्य मुद्दों पर भी किया गया जागरूक

उन्होंने कहा कि बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए कार्य किया जा रहा है। स्कूलों में अध्ययनरत व आंगनबाड़ी केंद्रों के बच्चों के स्वास्थ्य की समय-समय पर जांच होती रहती है। ज्यादा गंभीर बीमारी होने पर बच्चों को अस्पतालों में रेफर किया जाता है। सभी तरह की स्वास्थ्य सुविधाएं नि:शुल्क प्रदान की जाती है।

समर्थ फाउंडेशन के देवेंद्र गांधी ने कहा कि बेहतर स्वास्थ्य शिक्षा व किशोरावस्था में होने वाले परिवर्तनों के प्रति सजग होना होगा। माहवारी पर चुप्पी तोड़ें, यह शर्म संकोच का नहीं बल्कि ईश्वर का प्रदत्त अमूल्य उपहार है। फाउंडेशन की उर्मिला ने सखी हेल्पलाइन नंबर  18002124471 के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि यह हेल्प लाइन कोविड-19 के कारण उत्पन्न विषम परिस्थितियों में लोगों को उचित सलाह के लिए संचालित है।किशोरियों को पढ़ने के लिए दी आर्थिक मदद समर्थ फाउंडेशन व सहयोग के द्वारा कोरोना के कारण आर्थिक संकट से जूझ रही लड़कियों को सतत पढ़ाई के लिए 30000 रुपए की सहायता की गईं। खंड विकास अधिकारी रामसिंह अहिरवार ने बाल विवाह, पॉक्सो एक्ट, दहेज प्रतिशेध अधिनियम, किशोरी स्वास्थ्य जैसे विषयों पर विचार रखे।

साथ ही महिलाओं व किशोरियों को जागरूक करने के फाउंडेशन के कार्य की प्रशंसा की। उप कृषि निदेशक जितेंद्र मोहन श्रीवास्तव ने बायो कम्पोस्ट व पराली न जलाने के लिए लोगो को जागरूक करने पर जोर दिया। सहायक विकास अधिकारी शिव नरेश गुरुदेव ने महिलाओं से संबंधित हेल्पलाइन 1090, 112, 108,  की जानकारी दी। राजकीय हाईस्कूल की प्रधानाचार्या कंचन सचान ने बालिका शिक्षा पर जोर दिया।

Related Posts