नयी दिल्ली: कृषि सुधार कानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन के मद्देनजर नयी दिल्ली के जंतर मंतर और आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। दिल्ली सरकार और पुलिस ने किसानों को 22 जुलाई से नौ अगस्त तक प्रतिदिन 1100 बजे से लेकर 1700 बजे तक ऐतिहासिक जंतर मंतर पर धरना देने की मंगलवार को अनुमति दे दी है।

इस बीच पुलिस ने बताया कि वर्तमान समय में संसद का मानसून सत्र भी चल रहा है इसलिये जंतर मंतर और आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किये गये हैं।

बसों से धरना स्थल पहुंच रहे हैं किसान

किसान नेता राकेश टिकैत ने बुधवार को यहां बताया कि गुरुवार को करीब 200 किसान धरना में शामिल होंगे। धरना में शामिल होने वाले किसानों के बारे में निर्णय संयुक्त किसान मोर्चा करेगा । किसान बसों से धरना स्थल पर पहुंचेंगे। किसान पुलिस की निगरानी में आयेंगे और शाम को धरना समाप्त कर देंगे। धरना शांतिपूर्ण होगा और कोरोना नियमों का पालन किया जाएगा ।

DRDO ने यात्री बसों में आग से सुरक्षा के लिए प्रणाली विकसित की

संयुक्त किसान मोर्चा ने संसद के मानसून सत्र के दौरान धरना प्रदर्शन करने की घोषणा की थी । किसान संगठनों और सरकार के बीच 11 दौर की बातचीत के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हो सका था। पिछले सात माह से अधिक समय से किसान राजधानी की सीमाओं पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं ।