खकसीस (जालौन) : गांवो में कोरोना कर्फ्यू का मजाक उड़ाया जा रहा है। बाजारों की सूरत-ए-हाल यह है कि ग्राहकों से ज्यादा भीड़ दुकानदारों की है जो अपनी बंद दुकानों के बाहर ‘मछली’ पकड़ने के लिए अपनी बंसी में केंचुआ फंसाए बैठे हैं। यानी, बाहर से दुकान बंद और अंदर ग्राहकी जारी। मजेदार बात यह है कि प्रशासन के लोग बाजारों में लगातार भ्रमण कर रहे हैं लेकिन उनकी नजर गांवो में नही पड़ रही है। वही रेंढर थाना क्षेत्र के ग्राम खकसीस में पंचर सुधारने बाले से लेकर अन्य दुकानदारों को कोरोना का भय नही है और वह सोशल डिस्टेंसिग को ठेंगा दिखाते हुए मोटरसाइकिल चालको से 30 से लेकर 50 रुपये ऐंठ रहे है।

इस फटकियाबाजी का अंधेरा पक्ष यह है कि दुकानदार एक साथ दर्जनों ग्राहकों को शटर खोल कर अंदर कर लेते हैं और फिर शटर गिरा कर अंदर दुकानदारी कर रहे हैं। छोटी छोटी दुकानों में जब ग्राहकों की भीड़ घुसी होगी तो सीधे सीधे कोरोना को दावत तो मिल ही रही है जिसका खामियाजा ग्राहक और दुकानदार दोनों को ही भुगतना पड़ सकता है।