logo
बंगाल: NGO द्वारा किए गए अपमान न सहन कर पाने पर परिवार के तीन लोगों ने लगाई फांसी
 

पश्चिम बंगाल। पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले के बक्खाली के एक परिवार के तीन सदस्यों ने जंगल में एक पेड़ से फांसी लगा ली। उन्होंने इस कृत्य को फेसबुक पर लाइव स्ट्रीम भी किया। ये घटना 8 जनवरी को हुई थी।

मृतकों की पहचान अशोक नस्कर, उनकी पत्नी रीता और उनके बेटे अभिषेक के रूप में हुई है।

वीडियो को अभिषेक द्वारा लाइव-स्ट्रीम किया गया था, जिसने दावा किया था कि उन्हें एक NGO के सदस्यों द्वारा ये कदम उठाने के लिए मजबूर किया गया था जहां उनकी बहन काम करती थी। एसएचजी ने कथित तौर पर उनकी बहन पूनम पर 14 लाख रुपये की हेराफेरी करने का आरोप लगाया था। एसएचजी की महिलाएं 8 जनवरी को नस्कर के घर के बाहर जमा हो गईं और उन्हें अपमानित किया।

पुलिस के मुताबिक महिलाओं ने पहले परिवार के चारों सदस्यों को घर से बाहर निकाला और फिर घर में ताला लगा दिया। इसके बाद वे पूनम को अपने साथ ले गए। स्थानीय लोगों ने बताया कि पूनम और उसके पति को बांधकर गांव में घुमाया गया। उसके बाद उन्हें लैम्पपोस्ट से बांधकर पिटाई की गई।

पुलिस ने कहा कि अपमान ने अशोक रीता और अभिषेक को जंगल में जाने और अपना जीवन समाप्त करने के लिए प्रेरित किया। पुलिस ने पूनम को बचा लिया।

इस बीच डायमंड हार्बर पुलिस ने पांच महिलाओं को हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है।

Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें व टेलीग्राम ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें।