logo
Kanpur Metro : दिव्यांग अतिथियों ने की यात्रा, सुविधाओं पर बांधे तारीफो के पुल
 

कानपुर मेट्रो में सुविधा के नाम पर वह सभी बंदोबस्त किये गये है जो हर तरह के यात्रियों के अनुकूल हो। पेनिक बटन से लेकर व्हील चेयर तक सभी तरह की सुविधा उपलब्ध है। अपनी सुविधाओं के लिटमस टेस्ट के लिए आज मेट्रो प्रशासन द्वारा दृगाश्रम स्वयंसेवा समिति से जुड़े दिव्यांग यात्रियों को यात्रा के लिए बुलाया गया। इस यात्रादल में स्वयंसेवा समिति के 20 दिव्यांग यात्री शामिल हुए, जिन्होंने मोतीझील मेट्रो स्टेशन से आईआईटी कानपुर तक यात्रा एवं पुनःवापसी की।

दिव्यांगजनों के लिए कानपुर मेट्रो सबसे सुविधाजनक सार्वजनिक यातायात का विकल्प है। कानपुर मेट्रो के स्टेशनों पर दिव्यांगों के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाओं जैसे कि व्हील चेयर, प्लेटफ़ॉर्म तक ले जाने के लिए स्टाफ़ की व्यवस्था, लिफ़्ट में स्पेशल अनाउंसमेंट, ट्रेन और स्टेशन पर आरक्षित सीटों की व्यवस्था, स्पष्ट दिशा-निर्देश, लिफ़्ट के अंदर ब्रेल लिपि में संदेश और निर्देश आदि को सुनिश्चित किया गया है। स्पेशल टैक्टाइल रास्ते की मदद से देखने में अक्षम व्यक्ति ट्रेन तक आसानी से पहुंच सकते हैं।

इस अवसर पर दृगाश्रम सेवा समिति के निदेशक सुनील मंगल ने कानपुर मेट्रो में यात्रियों के लिए की गई व्यवस्था की प्रशंसा की और कहा कि, ‘‘आरंभ से ही दिव्यांग यात्रियों के प्रति संवेदनशीलता दिखाते हुए कानपुर मेट्रो में उनकी सहूलियतों का पूरा ख्याल रखा है।इस दिशा में किए अपने विशेष प्रयासों के बदौलत निस्संदेह ही यह सार्वजनिक यात्रा के क्षेत्र में एक मिसाल बनकर उभरा है।

उत्तर प्रदेश मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने दिव्यांग अतिथियों के मेट्रो यात्रा पर हर्ष वयक्त करते हुए कहा कि, ‘‘ अपने यात्रियों की सहूलियत को सर्वोपरि रखते हुए, शहरवासियों को एक सुऱक्षत और सुविधाजनक परिवहन का साधन मुहैया कराने की दिशा में कानपुर मेट्रो की तरफ से समर्पित प्रयास किए गए हैं। यह हमारा सामाजिक दायित्व है कि हम समाज को दिव्यांगों के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए हर संभव प्रयास करें। इस यात्रा के आयोजन के पीछे हमारा उद्देश्य मेट्रो स्टेशन एवं मेट्रो ट्रेनों में उपलब्ध सुविधाओं से अतिथियों को अवगत कराना था ताकि वे भविष्य में भी अपनी सभी यात्राओं के लिए निश्चिंत होकर कानपुर मेट्रो का प्रयोग कर सकें।‘‘

दिव्यांग यात्रियों के लिए विशेष प्रबंध-

  •  सड़क से स्टेशन और प्लेटफॉर्म तक पहुंचने में आसानी के लिए सभी स्टेशनों पर रैम्प का प्रबंध
  • सभी मेट्रो स्टेशनों पर व्हील चेयर तथा सहायता के लिए मेट्रो स्टाफ उपलब्ध
  • चौड़े एएफसी गेट्सए जिससे व्हीलचेयर्स से आने.जाने वालों को आसानी हो
  • लिफ्ट के बटन और ट्रेन के अंदर प्रॉयरिटी सीटों पर ब्रेल लिपि में सूचकों का प्रयोग
  • स्टेशन की विभिन्न फेसिलिटीज जैसे पेयजल, शौचालय, लिफ्ट आदि तक पहुंचने के लिए तथा प्लेटफॉर्म के किनारों का आभास कराने के लिए टैक्टाइल लाइनों का प्रयोग
  • लिफ्ट के अंदर ऑडियो संदेशों के माध्यम से निर्देश एवं मंजिल के लेवल की जानकारी
  • ट्रेन के प्लेटफॉर्म में प्रवेश करने पर ऑटोमैटिक वॉयस अनाउंसमेंट
  • सभी स्टेशनों के एस्कलेटर पर यात्रियों के लिए श्रव्य दिशा.निर्देशों की व्यवस्था
  • ट्रेन के अंदर व्हीलचेयर के लिए समर्पित जगह के निकट लॉन्ग स्टॉप ड्यूरेशन बटन (लंबी अवधि के लिए रूकने का निर्देश देने वाला बटन) ताकि ट्रेन के अंदर प्रवेश एवं निकास के लिए दिव्यांग यात्री को मिले पर्याप्त समय।
Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें व टेलीग्राम ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें।