logo
समाजवादी पार्टी की टिकट पाने के लिए की पूर्व चेयरमैन की हत्या, 6 आरोपी गिरफ्तार
 

उत्तर प्रदेश। तुलसीपुर निवासी पूर्व चेयरमैन फिरोज अहमद की 4 जनवरी को हत्या कर दी गई थी जिसके संबंध में उनके भाई आफरोज अहमद उर्फ रिंकू की तहरीर पर चार्ज शीट दाखिल किया गया था।

इस सनसनीखेज घटना का परदाफ़ाश करने के लिए पुलिस अधीक्षक बलरामपुर हेमंत कुटियाल द्वारा अपर पुलिस अधीक्षक नम्रिता श्रीवास्तव के निर्देशन तथा क्षेत्राधिकारी तुलसीपुर कुंवर प्रभात सिंह, क्षेत्राधिकारी नगर वरुण मिश्रा तथा क्षेत्राधिकारी उतरौला उदय राज सिंह के नेतृत्व मे 10 टीमों का गठन किया गया था। इन टीमों में, जिसमें सीसीटीवी चेकिंग टीम, सर्विलांस टीम, क्रिमिनल इंटेलिजेंस कलेक्शन एवं इंटेरोगेशन टीम प्रमुख थीं।

सीसीटीवी चेकिंग टीम द्वारा तुलसीपुर में लगे सीसीटीवी से लगभग 250 फुटेज एकत्र किए गए तथा  क्रिमिनल इंटेलिजेंस टीम द्वारा गोपनीय रूप से सूचनाओं का संकलन किया गया तथा  घटना के संबंध में महत्वपूर्ण तथ्य एकत्र किए गए।

सर्विलांस टीम तथा क्रीमिनल इन्टेलीजेंस कलेक्शन टीम द्वारा 100 से अधिक लोगों से पूछताछ कर उनके मोबाइल नम्बरों का विश्लेषण करते हुए घटना को अंजाम देने वाले तक पहुंचा गया। इस घटना को अंजाम देने वाले अभियुक्तों ने स्वीकार कर लिया है जिसके बाद उनकी गिरफ्तारी हो गई है।

राजनैतिक टिकट पाने के लिए दिया घटना को अंजाम

तुलसीपुर निवासी पूर्व चेयरमैन फिरोज अहमद की पूर्व नियोजित तरिके से समय करीब रात्रि 10.20 बजे उनके घर के पास अज्ञात हमलावरों द्वारा  हत्या की घटना को अंजाम दिया गया।

इस घटना के मामले में  गिरफ्तार किये गये आरोपी मेराजुल हक उर्फ मामा व महफूज से पूछताछ करने पर तथा घटना से सम्बन्धित वैज्ञानिक साक्ष्यों की समीक्षा करने पर यह बात प्रकाश मे आयी कि मृतक फिरोज अहमद एवं पूर्व सांसद रिजवान जहीर समाजवादी पार्टी के सक्रिय सदस्य हैं।  फिरोज अहमद एवं पूर्व सांसद रिजवान जहीर, उनकी पुत्री जेबा  व दमाद रमीज के बीच समाजवादी पार्टी के टिकट पाने हेतु  राजनैतिक प्रतिद्वन्दिता थी।

पूर्व में मृतक फिरोज अहमद, रिजवान जहीर के गुट में थे पर पिछले कुछ वर्षों में मृतक फिरोज अहमद ने क्षेत्र मे अपनी अलग पहचान बना ली थी और उनकी लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही थी। पूर्व में फिरोज तथा वर्तमान में उनकी पत्नी कहकशा तुलसीपुर नगर पंचायत की चेयरमैन बनीं।  फिरोज का राजनैतिक वर्चस्व बढ़ने लगा। दोनों पक्ष समाजवादी पार्टी का टिकट प्राप्त करने की होड़ में थे और पुरजोर तरीके से टिकट के लिए पैरवी कर रहे थे। इसी कारण मृतक फिरोज व रिजवान जहीर के बीच धीरे-धीरे राजनैतिक कटुता बढ़ती गई, जिसमे खुले तौर पर रिजवान जहीर के दमाद रमीज तथा कार्यकर्ता मेराज द्वारा मृतक फिरोज अहमद को कई बार चैलेंज किया गया तथा सोशल मीडिया पर टिप्पणी की गई।

विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी का टिकट प्राप्त करने में मृतक फिरोज पूर्व सांसद रिजवान जहीर के रास्ते में आ रहे थे। घटना से पूर्व दोनों पक्ष समाजवादी पार्टी के टिकट की पैरवी के लिए लखनऊ गए थे । पूर्व सांसद रिजवान जहीर अपनी पुत्री जेबा के लिये समाजवादी पार्टी के टिकट के लिये प्रयासरत है और दूसरी तरफ मृतक फिरोज जिसे तुलसीपुर क्षेत्र में हिन्दू मुस्लिम दोनों समुदायों का समर्थन था वो भी समाजवादी पार्टी से टिकट पाने के लिये अलग अलग माध्यमों से पैरवी करा रहे थे।  इसी राजनैतिक विद्वेष के कारण रिजवान जहीर, रमीज, जेबा व शकील द्वारा पूर्व चेयरमैन फिरोज अहमद की हत्या का षड्यंत्र बनाया गया और इस कार्य के लिए उन्होंने अपने नजदीकी मेहराज व महफूज को लगाया।

योजना करीब एक महीने पहले बनाई गई थी जिसमें करीब तीन बार  फिरोज को मारने का प्रयास किया गया परंतु हर बार असफल रहे। 4 जनवरी 2022 को जब पूर्व चेयरमैन फिरोज अहमद लखनऊ से वापस आए तो रमीज द्वारा शकील के माध्यम से मेराजुल हक उर्फ मामा व महफूज को अपने कोठी पर बुलाया गया और कार्य पूरा करने के लिए बोला गया। उसी दिन शाम को जब फिरोज अपने मित्र शाहिद के साथ घर से निकले थे तभी से मेराज व महफूज घात लगाकर गली में बैठ गए और फिरोज अहमद के वापस आने का इंतजार करने लगे जैसे ही फिरोज अहमद वापस आए और अपने घर की तरफ पैदल जाने लगे तभी आरोपियों द्वारा राड और चाकू से उन पर हमला कर हत्या कर दी गई और भाग गए।

मेराज द्वारा घटना करने के बाद रमीज को सूचना दी गई तथा रात में  रिजवान जहीर की कोठी पर जाकर रुक  गया।

ये हैं गिरफ्तार किये गए आरोपी-

1. मेराजुल हक उर्फ मामा पुत्र एहसानुलहक नि0 इमलिया गनेशपुर थाना हर्रैया जनपद बलरामपुर, हाल निवास जरवा रोड कस्बा तुलसीपुर थाना तुलसीपुर जनपद बलरामपुर 
2. महफूज पुत्र अबुल हासिम नि0- जरवा रोड़ कस्बा तुलसीपुर थाना तुलसीपुर जनपद बलरामपुर, 
3. रिजवान जहीर पुत्र जहीरूल्हक नि0- शीतलापुर कस्बा तुलसीपुर थाना तुलसीपुर जनपद बलरामपुर, 
4. रमीज पुत्र नियामतखां नि0- भंगहाकला हालनिवास- मो0 शीतलापुर (सांसद आवास) थाना तुलसीपुर जनपद बलरामपुर, 
5. जेबा रिजवान पत्नी रमीज नि0- शीतलापुर कस्बा तुलसीपुर थाना तुलसीपुर जनपद बलरामपुर, 
6. शकील पुत्र मो0 याकूब नि0- जेठवारा थाना जेठवारा जनपद प्रतापगढ

आरोपियों का आपराधिक इतिहास-

पूर्व सांसद रिजवान जहीर पुत्र जहीरूल्हक के उपर पूर्व के 14 अभियोग हैं जिसमें हत्या/बलवा के कई अभियोग हैं। वर्ष 2021 में प्रधानी चुनाव के दौरान भी इनके विरूद्ध अभियोग पंजीकृत किया गया था तथा एनएसए के अन्तर्गत कार्यवाही की गयी थी।

Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें व टेलीग्राम ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें।