logo
सिरफिरे आशिक ने प्रेमिका और उसके बच्चों के अपहरण का लिखवाया झूठा मुकदमा , देखिए महिला ने क्या कहा
 
इटावा : आपने बहुत से मामले देखे होंगे प्रेम प्रसंग के चलते जिसमें प्रेमी के ऊपर अपहरण या बहला-फुसलाकर ले जाने का आरोप लगाया जाता है लेकिन आज हम आपको जो घटना के बारे में बताने जा रहे हैं वह बिल्कुल उलट है। यहां महिला के परिजनों ने नहीं बल्कि प्रेमी ने अपनी प्रेमिका के अपहरण का मुकदमा दर्ज करवाया है जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। 
मामला उत्तर प्रदेश के इटावा जनपद के बढ़पुरा थाना क्षेत्र का है। जहां पर एक प्रेमी द्वारा उसकी प्रेमिका और प्रेमिका के बच्चों के अपहरण का मुकदमा दर्ज करवाया गया था। मामला संज्ञान में आया तो जांच पड़ताल की गई। लेकिन जब खुद उसने आकर मामला साफ किया। जिसके अपहरण का सिरफिरे आशिक ने मुकदमा करवाया था तब दूध का दूध पानी का पानी हुआ। 
आपको बता दें कि जिला पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना पत्र देते हुए संगीता देवी ने बताया की उनके पति की मृत्यु हो जाने के बाद वह अपनी मर्जी से अशोक पुत्र स्वर्गीय भागीरथ जो कि बढ़पुरा थाना क्षेत्र के नगला कछार गांव के रहने वाले हैं उनके साथ रहने लगे थे। संगीता देवी ने न्यूज़ क्रांति को जानकारी देते हुए बताया की पति की मृत्यु हो जाने के बाद उन्होंने सहारा ढूंढते हुए अशोक के साथ रहने का निर्णय लिया लेकिन कुछ समय बाद वह उनके साथ मारपीट एवं अभद्रता करने लगा जिसके चलते उन्होंने अपने बच्चों के साथ अलग रहने का निर्णय लिया और वह अशोक को छोड़कर अकेली रहने लगी। जिसके बाद सिरफिरे प्रेमी ने संगीता देवी व उसके बच्चों के अपहरण का आरोप लगाते हुए कुछ लोगों पर मुकदमा पंजीकृत करवा दिया जिसकी जानकारी जब संगीता को हुई। तो उन्होंने जिला पुलिस अधीक्षक को मुकदमा गलत है यह बताते हुए प्रार्थना पत्र दिया। एवं मीडिया से वार्तालाप के दौरान उन्होंने मीडिया बंधुओं का आभार भी किया कि वह बहुत दिनों से इस मामले को लेकर परेशान हैं और उनका प्रेमी उनके ऊपर साथ रहने का दबाव भी बना रहा है अब देखना यह होगा कि पुलिस इस मामले में क्या एक्शन लेती है।
 
रिपोर्ट :: शिवम दुबे
Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें व टेलीग्राम ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें।