logo
व्यापारी ने की थाने में जहर खाकर खुदखुशी, तीन पुलिसकर्मी समेत दो दरोगा निलंबित
 

कानपुर। एक गल्ला व्यापारी ने साढ़ थाने में जहर खा लिया जिसके चलते पुलिसकर्मियों पर आफत आ गई है।  गल्ला व्यापारी अरुण कुमार गुप्ता के साढ़ थाने में जहर खा कर खुदकुशी करने का मामला सामने आया है। इस मामले में पुलिसकर्मियों की लापरवाही देखने को मिली है जिसके चलते दो दरोगा समेत तीन पुलिसकर्मी निलंबित कर दिए गए हैं जबकि दो अन्य पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया।

साढ़ थाना क्षेत्र के गोपालपुर गांव निवासी गल्ला व्यापारी अरुण कुमार गुप्ता (45) के गोदाम में बीते सोमवार को चोरी हुई थी। बताया जा रहा है कि अरुण कुमार दो दिनों तक थाने के चक्कर लगाया पर इस मामले में उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। जांच किए जाने पर निलंबित सभी पुलिसकर्मी इस मामले में दोषी पाए गए हैं। हालांकि साढ़ थानेदार के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय सिर्फ जांच का हवाला दिया जा रहा है। 

जानकारी के मुताबिक, गल्ला व्यापारी को पुलिसकर्मियों के दुर्व्यवहार का शिकार भी होना पड़ा। शिकायत लेकर पहुंचे गल्ला व्यापारी को ही पुलिसकर्मियों ने पीट दिया और इसके बाद उसे दो घंटे तक हवालात में डाल दिया था। जिससे अरुण को अपमानित महसूस हुआ और शुक्रवार सुबह थाने पहुंचकर जहर खाकर अपनी जान दे दी।

एसपी आउटर अजीत कुमार सिन्हा ने बताया कि शुरुआती जांच में जिन पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आई उसमें दरोगा विनीत कुमार, दरोगा कृष्णकांत व हेड कांस्टेबल सुरेश कुमार पाल को निलंबित कर दिया गया है। थाने के दो अन्य सिपाहियों को लाइन हाजिर किया गया है। इन सभी के खिलाफ प्रारंभिक जांच एएसपी आउटर आदित्य कुमार शुक्ला को सौंपी गई है। 

अरुण के परिवार वालों का कहना है कि पुलिस ने उसे प्रताड़ित किया था जिसके चलते उसने खुदकुशी की। परिवार वालों के मुताबिक पुलिसकर्मियों की पूरी गलती है। जिसके चलते उनपर एफआईआर दर्ज होनी चाहिए। इसमें आत्महत्या दुष्प्रेरण (धारा 306) यानी खुदकुशी के लिए मजबूर करने, मारपीट आदि धारा में केस दर्ज की मांग की जा रही है। 

Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें व टेलीग्राम ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें।