अतरौलिया(आजमगढ़)। कोरोन काल मे क्षेत्र में हो रही मौतों को लेकर लोग इस कदर डरे सहमे हुए हैं कि अब आस्था का भी सहारा लेना पड़ रहा है। अतरौलिया क्षेत्र के भरसानी ग्राम सभा में की दर्जनों महिलाएं कोरोना महामारी से समाज को छुटकारा दिलाने के लिए ग्रामदेवता डीह तथा काली की पूजा कर कोरोनावायरस से लोगों की रक्षा हेतु मन्नत माग पूजा की ।

क्षेत्र के भरसानी गांव में सोमवार सुबह दर्जनों की संख्या में महिलाएं इकट्ठा होकर धार और कपूर के साथ ग्राम देवता डीह, काली की पूजा अर्चना की । औरतों का कहना है कि कुरौना की वजह से क्षेत्र में हो रही मौतों के कारण लोग डरे और सहमे हुए हैं ऐसे में हर गांव के बाहर ग्राम देवता का आस्थापना प्राचीन काल से चली आ रही है और मान्यता है कि यह ग्राम देवता गांव की रक्षा करते हैं, और ग्रामीण इनकी पूजा करते हैं। महिलाओं का मानना है कि ऐसा करने अगर ग्राम देवता की कृपा बनी रही तो गांव में कोई भी आपदा नहीं आएगी। घर के बच्चे बुजुर्ग तथा क्षेत्र के सभी लोग सुरक्षित और खुशहाल रहेंगे। तेजी से हो रही मौत के  कारण महिलाओं में काफी चिंता व्याप्त है कि अगर ऐसा नहीं किया गया तो यह बीमारी सभी लोगों को धीरे धीरे अपनी गिरफ्त में ले लेगी।दर्जनों की संख्या में इकट्ठा हुई महिलाओं में कॅरोना से निजात पाने की पूजा को लेकर काफी उत्साह रहा । वही कुछ लोग इस आस्था को अंधविश्वास मानते है। अतरौलिया क्षेत्र का यह पहला मामला है जहां इतनी भारी संख्या में महिलाएं ईकट्ठा होकर डीह और काली को कॅरोना से बचने के लिए धार चढ़ा रही हैं। खानपुर फतेह तथा भरसानी गांव की सभी महिलाओं ने इस करोना पूजा में हिस्सा लिया ।पूरे क्षेत्र के लोगों में यह बात चर्चा का विषय बनी हुई है।

रिपोर्ट : शैलेंद्र शर्मा