उरई। ठेकेदार की डिग्गी में रखे पांच लाख रुपये टप्पेबाज ने पार कर दिए। जब उसे इसकी जानकारी हुई।तो उसने इसकी तहरीर कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस ने तहरीर लेकर आसपास के सीसीटीवी फुटेज चेक किए तो पता चला टप्पेबाज पहले से ही रेकी करते नजर आया। लेकिन कोतवाली पुलिस मामले को गम्भीरता से नही ले रही है।
शहर के मोहल्ला नया रामनगर निवासी रजनीकांत पुत्र वीरेंद्र सिंह लघु सिंचाई विभाग में ठेकेदार है।

रजनीकांत ने पुलिस अधीक्षक को दिए गए शिकायती पत्र में अवगत कराया कि एक अक्टूबर को उसने एक्सिस बैंक से दो लाख रुपए निकाले थे जबकि तीन लाख रुपए उसे उसके सहयोगी ठेकेदार अखलाक ने दिए थे। इस प्रकार उसने पांच लाख रुपए अपने स्कूटी की डिग्गी में रख दिए थे। उसके बाद वह ऑफीसर कॉलोनी में सहायक अभियंता के आवास पर मिलने चला गया। जिससे उसने स्कूटी बाहर खड़ी कर दी। तभी बैंक से ही उसकी रेकी करते आ रहे एक टप्पेबाज ने उसकी डीग्गी का ताला तोड़कर उसमें रखे पांच लाख रुपए व चेकबुक पार कर दी। बाहर निकलने के बाद स्कूटी की डिग्गी खुली मिली। बाद में बैंक से लेकर विकास भवन व कुछ जगहों की सीसीटीवी फुटेज निकलवाई गई तो पता चला कि वह बदमाश लगातार उसकी रेकी कर रहा था।

मास्क लगा होने के कारण फुटेज में उसका चेहरा साफ नहीं दिख रहा। कोतवाली में तहरीर व फुटेज देने के बाद भी पुलिस द्वारा अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इससे वह परेशान है। रुपयों के अलावा उसके जरूरी कागजात भी बदमाश द्वारा चुरा लिए गए। उसने मामले की शिकायत एसपी से करते हुए मांग की है कि इस मामले एक्शन लेकर उसका पैसा वापस दिलाया जाए।

  • रिपोर्ट : दीपू द्विवेदी