गोण्डा: भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 अटल बिहारी वाजपेयी की जयन्ती सुशासन दिवस के रूप में जनपद में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस अवसर पर कृृषि मेला, गोष्ठी एवं प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। मुख्य कार्यक्रम नगर के बेंकटाचार क्लब में आयोजित हुआ जिसमें प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, निवेश व निर्यात, खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम, हथकरघा, वस्त्रोद्योग एवं एनआरआई विभाग/जनपद के प्रभारी मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने बतौर मुख्य अतिथि फीता काटकर समारोह का शुभारम्भ किया। इसके अतिरिक्त जनपद के सभी 16 विकासखण्डों में कृषि मेला, गोष्ठी, प्रदर्शनी एवं पधानमंत्री के सम्बोधन का सीधा प्रसारण हुआ।


सुशासन दिवस के मौके पर प्रभारी मंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 अटल जी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की। इस अवसर पर उन्होंने आयेजित कृषि प्रदर्शनी का अवलोकन किया तथा 11 एफपीओ को ट्रैक्टर व अन्य कृषि यंत्र प्रदान किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि केन्द्र व प्रदेश की सरकार देश के किसान व हर वर्ग के लोगों के उत्थान के लिए तमाम तरह की योजनाएं संचालित कर रही है। उन्होंने कहा कि देश में कृषि विभाग का बजट पहले मात्र 34 हजार करोड़ हुआ करता था जिसे केन्द्र की मोदी सरकार ने बढ़ाकर 01 लाख 34 हजार 399 करोड़ किया। इसके साथ ही न्यनूतम समर्थन मूल्य योजना के तहत डेढ़ गुना मूल्य बढ़ाकर 60 हजार करोड़ रूपए का भुगतान किया जा चुका है।

प्रदेश सरकार द्वारा गन्ना किसानों को 01 लाख 12 हजार करोड़ रूपए का भुगतान तथा पिछला बकाए का 17 हजार करोड़ रूपए किसानों को देने का काम किया है। इसके अलावा एफपीओ के माध्यम से किसानों को कृषि यंत्रों के लिए 12 लाख रूपए की आर्थिक सहायता भी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि ऋण मोचन योजना के अन्तर्गत प्रथम कैबिनेट बैठक में कर्ज मेें डूबे गरीब किसानों का 36 हजार करोड़ रूपए कर्ज माफ करने का काम प्रदेश सरकार द्वारा किया गया है। मंत्री ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री द्वारा कृषि क्षेत्र में क्रान्ति लाई जा रही है। किसानों की आय बढ़ाने व उनके जीवन में समृद्धि लाने के लिए प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में सरकार लगातार फैसले ले रही है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा कभी एमएसपी बन्द नहीं की जाएगी।

सरकार द्वारा कृषि उपज मूल्य वृद्धि के लिए खाद्य प्र्संस्करण के माध्यम से ओडीओपी योजना द्वारा गति प्रदान की जा रही है। उन्होंने कृषक भाइयों से अपील की कि वे अनुदान आधारित कल्याणकारी योजनाओं का पूरा लाभ उठाएं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने कृषि कुम्भ आयोजित करके कृषि विशेषज्ञों के सुझाव पर जापान व इजराइल की कृषि तकनीकों को लागू कर कृषि उत्पादन बढ़ाने की दशा में उल्लेखनीय कार्य किया है। कृषि व मत्स्य क्षेत्र में तकनीकी सहयोग से उत्पादन बढ़ाने व स्थानीय स्तर पर उत्पाद विक्रय से किसानों की आमदनी बढ़ाने का पूरा प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों के हित में किए गए सुधारों से भारतीय कृषि में नए अध्याय की शुरूआत हुई है और इसमें किसानों को भरपूर मजबतूी मिलेगी।

उन्होंने कृषकों भाइयों से यह भी अपील की कि वे भ्रमित करने वालों से कदापि भ्रमित न हों। प्रभारी मंत्री के सम्बोधन के बाद दोपहर 12 बजे से देश के मा0 प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का राष्ट्र के नाम सम्बोधन का सीधा प्रसारण किया गया जिसेे वहां पर उपस्थित कृषकों, मा0 जनप्रतिनिधियों तथा अन्य लोगों ने देखा।

इसके साथ ही जनपद के सभी ब्लाकों पर प्रधानमंत्री के उद्बोधन का सीधा प्रसारण किया गया। इस अवसर पर मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत जिले के 4 लाख 49 हजार किसानों के खाते में योजना की सातवीं किस्त की धनराशि भी ट्रान्सफर की गई। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष सूर्य नरायन तिवारी, जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल, पुलिस अधीक्षक शैलेश पाण्डेय, सीडीओ शशांक त्रिपाठी, पूर्व अध्यक्ष अकबाल बहादुर तिवारी, अपर निदेशक कृषि, उपनिदेशक कृषि डा0 मुकुल तिवारी, के0के0 श्रीवास्तव, राजाबाबू गुप्ता, राकेश तिवारी, अनुपम मिश्र, नीरज तिवारी, विकास मिश्र, राजेश तिवारी सहित अन्य अधिकारी व जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।
रिपोर्ट राहुल तिवारी