अत्याचार बर्दाश्त करना है सबसे बड़ी कायरता

by shubham

हमीरपुर: राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण ने कुरारा ब्लाक के चंदूपुर स्थित प्राथमिक पाठशाला में महिला सशक्तिकरण हेतु विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया । मुख्य अतिथि सुनीता शर्मा सिविल जज/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलित कर विधिक शिविर का शुभारम्भ किया । न्यायिक अधिकारी/सचिव श्रीमती सुनीता शर्मा ने कहा कि महिलाएं पुरुषों से अधिक शक्तिशाली हैं, और हर क्षेत्र में सफलता का परचम लहरा रही हैं ।

वहीं अभी भी बहुत सी अज्ञानता,अशिक्षा व निर्धनता के कारण खुद को कमजोर समझकर उत्पीड़न व अत्याचार बर्दाश्त कर रही हैं । अत्याचार बर्दाश्त करना सबसे बड़ी कायरता है । संविधान में महिलाओं को बराबरी का दर्जा मिला है । महिलाओं को समान हक व समान कानूनी अधिकार हैं । उन्हें गाढ़े वक़्त पर अपने कानूनी अधिकारों को इस्तेमाल करना चाहिए ।

कौन कौन हुआ शामिल

सिविल जज श्री मती शर्मा ने समाज में महिलाओं के प्रति हो रहे दहेज़ उत्पीड़न एवं घरेलू हिंसा मामलों में होने वाले क्रूर व्यवहार व उत्पीड़न से बचने के लिए कानूनी उपाय बताये । साथ ही यह भी बताया कि पीड़ित गरीब व निर्बल वर्ग की महिलायें एवं पुरुष अपने मुकदमे की पैरवी हेतु जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से प्रदत्त वकील की सेवाएं निःशुल्क रूप से प्राप्त कर सकते हैं ।

महिला कल्याण विभाग की क्वार्डिनेटर संतोषी शर्मा ने सुकन्या मंगला कन्या योजना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की जानकारी दी । उन्होंने उत्पीड़न से बचने के लिए 1076 व 181 टोल फ्री नंबर डायल कर कॉल करने को कहा । पीएलवी गणेश सिंह, रिसोर्स पर्सन श्री मती शैलजा निगम तथा गरिमा ओमर समाजसेवी ने भी शिविर में महत्वपूर्ण विधिक जानकारियां दी । ग्राम प्रधान श्री मती राजकली, कु. अवंतिका एडवोकेट, देवेंद्र मोहन चौबे, लक्ष्मी कान्त त्रिपाठी, मुकेश द्विवेदी सहित गाँव की महिलाएं व पुरुष मौजूद रहे । कार्यक्रम की अध्यक्षता ग्राम प्रतिनिधि संतोष निषाद ने किया । संचालन दीपक चक्रवर्ती ने किया ।

Related Posts